close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कल रात से लाइफ सपोर्ट सिस्‍टम पर हैं अरुण जेटली, AIIMS में डॉक्‍टर कर रहे निगरानी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत अन्‍य नेताओं ने शुक्रवार को ही एम्‍स पहुंचकर अरुण जेटली का हालचाल जाना.

कल रात से लाइफ सपोर्ट सिस्‍टम पर हैं अरुण जेटली, AIIMS में डॉक्‍टर कर रहे निगरानी
अरुण जेटली को कल एम्‍स में भर्ती कराया गया था.

नई दिल्‍ली : बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता और पूर्व वित्‍त मंत्री अरुण जेटली की हालत स्थिर है. उन्‍हें शुक्रवार को दिल्‍ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान (AIIMS) में भर्ती कराया गया था. अरुण जेटली का इलाज एंडोक्रिनोलोजिस्ट नेफ्रोलॉजिस्ट और कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टरों की देखरेख में चल रहा है. सूत्रों के अनुसार, जेटली को सांस लेने में तकलीफ है और उनके फेफड़ों में पानी भरा हुआ है. अरुण जेटली को कल रात से एम्‍स के आईसीयू में लाइफ सपोर्ट सिस्‍टम पर रखा गया है.

शनिवार सुबह अरुण जेटली की तबीयत जानने उप राष्‍ट्रपति वेंकैया नायडू भी एम्‍स पहुंचे. वह सुबह 7:30 बजे एम्‍स पहुंचे और जेटली का इलाज कर रहे डॉक्‍टरों से उनकी तबीयत के बारे में जानकारी ली. करीब 20 मिनट तक अस्‍पताल में रुकने के बाद उप राष्‍ट्रपति वहां से चले गए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत अन्‍य नेताओं ने शुक्रवार रात को ही एम्‍स पहुंचकर अरुण जेटली का हालचाल जाना. 

देखें LIVE TV

एम्‍स की ओर से शुक्रवार रात को जारी मेडिकल बुलेटिन में कहा गया है कि अरुण जेटली की हालत स्थिर है. उनका ब्लड प्रेशर सामान्य है. जेटली को कई विशेषज्ञ डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया है. अरुण जेटली (Arun jaitley) कार्डियो-न्यूरो विभाग के ICU में हैं. आपको बता दें कि पिछले साल ही अरुण जेटली (Arun jaitley) का किडनी ट्रांसप्लांट हुआ था.


एम्‍स से जारी मेडिकल बुलेटिन. 

इस बार शरीर के साथ नहीं देने के चलते ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra modi) से आग्रह किया था कि उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया जाए, जिसे मान लिया गया है. पिछली सरकार में अरुण जेटली (Arun jaitley) सरकार में कद्दावर मंत्री रहे. इन्हीं वित्तमंत्री रहते हुए मोदी सरकार ने नोटबंदी और जीएसटी लागू करने जैसे कड़े फैसले ले पाई.