पराली जलना बंद होने की वजह से सुधरी है दिल्ली की वायु गुणवत्ता: अरविंद केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल ने कहा, "उत्तर भारत में पराली जलने और वायु गुणवत्ता सूचकांक में बढ़ने के बीच बहुत बड़ा संबंध देखा जा सकता है.''

पराली जलना बंद होने की वजह से सुधरी है दिल्ली की वायु गुणवत्ता: अरविंद केजरीवाल
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने रविवार को एक बार फिर कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण (Pollution) पराली जलने (stubble burning) के कारण है और अब इसके लगभग खत्म होने पर वायु गुणवत्ता (Air quality) सुधर रही है.

दिल्ली सरकार के संवाद एवं विकास आयोग के उपाध्यक्ष जैस्मीन शाह ने कुछ तस्वीरों के साथ एक ट्वीट साझा किया. तस्वीरों में पराली जलने की घटनाएं कम होने से दिल्ली वायु गुणवत्ता सुधरती हुई दिखाई जा रही थी.

शाह ने ट्वीट किया, "दिल्ली के ज्यादातर भागों में बिल्कुल उसी समय एक्यूआई स्तर 200 (मध्यम स्तर) से कम चला गया, जब पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के खेतों में पराली जलाए जाने की घटनाएं कम हो रही हैं."

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए केजरीवाल ने ट्वीट किया, "उत्तर भारत में पराली जलने और वायु गुणवत्ता सूचकांक में बढ़ने के बीच बहुत बड़ा संबंध देखा जा सकता है. अक्टूबर के पहले महीने में पराली जलना शुरू होते ही एक्यूआई बढ़ना शुरू हो गया था. अब इसके लगभग खत्म होने पर वायु गुणवत्ता सुधर रही है."

केजरीवाल ने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'फसलें जलनी बंद हो गयी. और इसके साथ ही दिल्ली की हवा भी साफ़ हो गयी. कुछ लोग कह रहे थे दिल्ली की हवा में केवल 5% फसलों का प्रदूषण है. तो क्या केवल 5% प्रदूषण कम होने से AQI 500 से ज़्यादा से 200 से कम हो गया? प्रदूषण पर राजनीति नहीं, साफ़ नीयत से सबको मिलकर काम करने की ज़रूरत है.'