close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अरविंद केजरीवाल की जनता से अपील, 'कांग्रेस को वोट नहीं दें, इससे PM मोदी मजबूत होंगे'

यह अपील ऐसे समय में की गई जब मीडिया में ऐसी खबरें चल रही हैं कि लोकसभा चुनाव में गठबंधन के लिए आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस संपर्क में हैं.

अरविंद केजरीवाल की जनता से अपील, 'कांग्रेस को वोट नहीं दें, इससे PM मोदी मजबूत होंगे'
अरविंद केजरीवाल ने जनता से कहा, ''आप अपने वोट बंटने न दें. सभी सात सांसद ‘आप’ के ही चुनें.''(फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को लोगों से कांग्रेस को वोट नहीं देने की अपील की. यह अपील ऐसे समय में की गई जब मीडिया में ऐसी खबरें चल रही हैं कि लोकसभा चुनाव में गठबंधन के लिए आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस संपर्क में हैं. ककरोला में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने लोगों से भाजपा को भी वोट नहीं देने की अपील की. उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली के विकास के लिए भाजपा के सभी सात सांसदों ने कुछ नहीं किया.

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस के लिए बिल्कुल भी वोट नहीं करें क्योंकि अगर आप कांग्रेस को वोट करेंगे तो यह नरेंद्र मोदी को ही मजबूत करेगी. आप अपने वोट बंटने न दें. सभी सात सांसद ‘आप’ के ही चुनें.'

AAP की पंजाब इकाई ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करने को कहा

अधिकारियों को दिल्ली विधानसभा में दिए गए आश्वासनों को पूरा करने के निर्देश
इससे पहले दिल्ली के मुख्य सचिव विजय कुमार देव ने पिछले दिनों सभी विभाग प्रमुखों को सुनिश्चित करने को कहा कि विधानसभा में सरकार द्वारा दिए गए सभी आश्वासन निर्धारित समय में पूरा किए जाएं. दिल्ली सरकार में शीर्ष नौकरशाह देव ने प्रधान सचिवों और सचिवों को एक आधिकारिक परिपत्र में कहा है कि विभागों की ओर से कोताही बरते जाने पर उचित कदम उठाए जाएंगे.

केजरीवाल सहित राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सभी सदस्यों का कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ा

देव के पूर्ववर्ती अंशु प्रकाश का विभिन्न मुद्दों पर आप सरकार से टकराव हुआ था. देव अरविंद केजरीवाल सरकार के साथ अब तक किसी तरह के टकराव से बचते रहे हैं. पिछले साल 21 दिसंबर को दिल्ली विधानसभा की सरकारी आश्वासन संबंधी कमेटी की पहली रिपोर्ट स्वीकार करने के बाद यह कदम उठाया गया है.

उन्होंने परिपत्र में कहा है कि यह संबंधित विभाग प्रमुखों की जिम्मेदारी है कि दिए गए आश्वासनों को पूरा करने के संबंध में तमाम जानकारी मुहैया कराएं. परिपत्र में मुख्य सचिव ने यह भी कहा है सभी संबंधित अधिकारियों को सलाह दी जाती है कि विधानसभा में दिए गए आश्वासनों की समीक्षा करें और सुनिश्चित करें कि निर्धारित अवधि में काम पूरे हों.

(इनपुट: एजेंसी भाषा से)