चंडीगढ़ का सेक्टर 17 पैदल चलने वालों के लिए फिर से बनेगा स्वर्ग, लौटेगी खूबसूरती, हटाए जाएंगे वेंडर्स

वर्तमान में सेक्टर 17 में 697 वेंडर बैठते हैं. दो साल से ट्रेडर्स एसोसिएशन इन वेंडर्स को हटाने की मांग हाईकोर्ट से कर रहे थे.

चंडीगढ़ का सेक्टर 17 पैदल चलने वालों के लिए फिर से बनेगा स्वर्ग, लौटेगी खूबसूरती, हटाए जाएंगे वेंडर्स
हाईकोर्ट के इस आदेश से न सिर्फ व्यापारी वर्ग खुश है बल्कि भी काफी खुश नजर आए

चंडीगढ़: पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ प्रशासन को सिटी ब्यूटीफूल के दिल यानि की सेक्टर 17 को पूरी तरह से नो वेंडिग जोन बनाने के निर्देश दिए हैं. चीफ जस्टिस रवि शंकर झा और जस्टिस राजीव शर्मा की खंडपीठ ने गैर पंजीकृत रेहड़ी और फड़ी वालों को तुंरत प्रभाव से हटाने के निर्देश दिए हैं. तो वहीं पंजीकृत वेंडर्स को एक महीने के अंदर वेंडिग जोन में शिफ्ट करने के आदेश जारी किए हैं. आपको बता दें कि वर्तमान में सेक्टर 17 में 697 वेंडर बैठते हैं. दो साल से ट्रेडर्स एसोसिएशन इन वेंडर्स को हटाने की मांग हाईकोर्ट से कर रहे थे.

दरअसल स्ट्रीट वेंडर्स से जुड़ी एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सेक्टर 17 की ट्रेडर्स एसोसिएशन की और से पक्ष रखते हुए सीनियर वकील पुनीत बाली ने खचा खच भरी कोर्ट को बताया कि सेक्टर 17 भी हाईकोर्ट की तरह हैरिटेज क्षेत्र है जहां करोड़ों के शोरूम का लाखों में किराया देने वाले और टैक्स देने वाले दुकानदारों की दुकानों के सामने बिना किसी शुल्क और टैक्स के सैंकड़ों रेहड़ी फड़ी वाले बैठे हैं. दो वर्षों से दुकानदारों की अपील हाईकोर्ट में विचारधीन है जिनका करोड़ों का नुकसान हो चुका है. व्यापारियों पर क्या गुजर रही होगी वही जानते हैं. सोचिए अगर हाईकोर्ट के सामने फडियां लग जाएं तो क्या होगा. चीफ जस्टिस की डबल बेंच ने इस मामले को गंभीरता से लिया और ढाई घंटे मामले में सभी पक्षों को सुनने के बाद सेक्टर 17 को पूरी तरह नो वेंडिग जोन बनाने के निर्देश दिए.

हाईकोर्ट के इस आदेश से न सिर्फ व्यापारी वर्ग खुश है बल्कि जो सैलानी काफी सालों बाद सेक्टर 17 घुमने आए हैं उन्होने भी ज़ी मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि सेक्टर 17 को पैदल चलने वालों के लिए स्वर्ग कहा जाता था लेकिन अब जगह-जगह फड़ी वाले बैठे होने के कारण ये उतना खूबसूरत और साफ नहीं रहा. सैलानियों ने कहा सेक्टर 17 की ऐसी हालत देखकर निराशा हुई. हालांकि हाईकोर्ट के निर्देशों के बारे में जानकर उनमें उम्मीद जागी है कि चंडीगढ़ के सेक्टर 17 की दशा फिर से अच्छी हो जाएगी.

हाईकोर्ट ने शहर के सभी वेंडरों को वेंडिंग जोन में शिफ्ट करने के साथ ही अवैध वेंडरों को हटाने के निर्देश दिए हैं. इसकी रिपोर्ट चार सप्ताह में कोर्ट में पेश करनी है. ऐसे में इंफोर्समेंट विंग को अब और ताकत झोंकनी होगी. क्योंकि नगर निगम के सर्वे के मुताबिक शहर में 22000 वेंडर्स है जबकि 9356 वैंडर्स को रजिस्टर्ड किया गया है जिनको निर्धारित किये गए 40 वैंडर्स जोन्स में शिफ्ट करना होगा.