CAA विरोध: CM केजरीवाल बोले- 'दिल्ली के साथ पूरे देश में लॉ-एंड ऑर्डर खराब'

सीएम केजरीवाल ने कहा कि केवल मुसलमान ही नहीं, हिन्दूओं, सिक्खों, ईसाइयों और देश के सभी नागरिकों के अंदर डर है कि जब उन्हें कहा जाएगा कि कागज दिखा कर साबित करो कि आप देश के नागरिक हो. इस देश में गरीबों के पास कागज नहीं है. 70 प्रतिशत से ज्यादा लोगों के पास कुछ दिखाने को नहीं होगा. फिर उन लोगों को कहा जाएगा कि आप देश छोड़ कर जाओ. तो वे लोग कहां जाएंगे.'

CAA विरोध: CM केजरीवाल बोले- 'दिल्ली के साथ पूरे देश में लॉ-एंड ऑर्डर खराब'
CAA विरोध पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर देश की राजधानी दिल्ली में जारी विरोध-प्रदर्शन पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने कहा है कि केवल दिल्ली के अंदर ही नहीं, पूरे देश के अंदर लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति खराब होती जा रही है. दिन पर दिन यह बिगड़ती जा रही है. इसको लेकर मैं बहुत ज्यादा चिंचित हूं. लोगों में एक किस्म का डर है.'

सीएम केजरीवाल ने कहा कि केवल मुसलमान ही नहीं, हिन्दूओं, सिक्खों, ईसाइयों और देश के सभी नागरिकों के अंदर डर है कि जब उन्हें कहा जाएगा कि कागज दिखा कर साबित करो कि आप देश के नागरिक हो. इस देश में गरीबों के पास कागज नहीं है. 70 प्रतिशत से ज्यादा लोगों के पास कुछ दिखाने को नहीं होगा. फिर उन लोगों को कहा जाएगा कि आप देश छोड़ कर जाओ. तो वे लोग कहां जाएंगे.'

उन्होंने कहा कि यह देश तो अपना है. यहीं सब लोग पैदा हुए. हमारे बाप, दादा, परदादा सभी लोग यहीं पैदा हुए, तो वे लोग कहा जाएंगे. सभी लोगों के मन में यह डर पैदा हो गया है कि हमारे साथ क्या बर्ताव होगा. खासकर गरीब आदमी को है, चाहे वह किसी भी धर्म का हो. सब लोग इस समय डरे हुए हैं. इस कानून से कुछ भी हासिल नहीं होने वाला है. मेरी हाथ जोड़ कर केंद्र सरकार से अपील है कि इस समय इस कानून को लाने की कोई जरूरत नहीं है. इस समय सबसे बड़ी जरूरत है तो युवाओं को रोजगार देने की है. हम सब लोगों को मिल कर इंतजाम करना चाहिए कि हमारे बच्चों के लिए रोजगार पैदा हों और मेरे हिसाब से इस कानून की कोई आवश्यकता नहीं है.'

दिल्ली पुलिस ने कुछ इलाकों में कॉल, इंटरनेट बंद रखने को कहा
नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ गुरुवार को विरोध प्रदर्शन तेज होने के बाद दिल्ली पुलिस ने एयरटेल, जियो, एमटीएनएल, बीएसएनएल और वोडाफोन आइडिया सेलफोन ऑपरेटरों को पत्र लिखा है कि वे राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में सभी संचार सेवाओं को बंद कर दें. दिल्ली पुलिस द्वारा सेलफोन ऑपरेटरों को लिखे गए पत्र में कहा गया है, 'मौजूदा कानून व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए यह निर्देश दिया जाता है कि सभी प्रकार के संचार, यानी कॉल, एसएमएस और इंटरनेट को रोक दिया जाए.'

जिन क्षेत्रों में सेलुलर सेवाओं को रोकने के लिए कहा गया है, उनमें उत्तर और मध्य दिल्ली के इलाके शामिल हैं. इनमें मंडी हाउस, जामिया नगर, शाहीन बाग, सीलमपुर, जाफराबाद और बवाना ऐसे इलाके हैं, जहां मोबाइल सेवाओं को बंद करने के लिए कहा गया है.

पुलिस के अनुसार, ये वह विशिष्ट क्षेत्र हैं, जहां से भीड़ विरोध प्रदर्शन के केंद्र में पहुंच सकती है. पुलिस ने मध्य दिल्ली क्षेत्र में धारा 144 लगा दी है और एहतियात के तौर पर कम से कम 17 दिल्ली मेट्रो स्टेशनों के प्रवेश और निकास द्वार भी बंद कर दिए गए हैं.

पुलिस ने विरोध प्रदर्शन में भाग लेने वाले कई विपक्षी नेताओं को हिरासत में लिया है. कांग्रेस ने इस कदम की आलोचना करते हुए कहा है कि लोगों को विरोध करने के लोकतांत्रिक अधिकार से वंचित कर दिया गया है.

ये भी देखें-: