सीआईडी गृह मंत्रालय से जुड़ा मामला, विवाद मीडिया में नहीं आने चाहिए था: कैप्टन अभिमन्यु

हरियाणा में सीआईडी विवाद को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल और गृह मंत्री अनिल विज के बीच चल रही खींचतान किसी से छुपी नहीं है.

सीआईडी गृह मंत्रालय से जुड़ा मामला, विवाद मीडिया में नहीं आने चाहिए था: कैप्टन अभिमन्यु

हिसार: हरियाणा में सीआईडी विवाद को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल और गृह मंत्री अनिल विज के बीच चल रही खींचतान किसी से छुपी नहीं है. अब इसी मसले को लेकर हरियाणा के पूर्व वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने जो बातें कही हैं, उसे देख ऐसा ही लगता है जैसे कैप्टन अभिमन्यु अनिल विज को सीआईडी की कमान देने के पक्ष में है. 

पूर्व वित्तमंत्री ने कहा कि कायदे से इस तरह के विवाद मीडिया में सामने में नहीं आने चाहिए. सीआईडी गृह मंत्रालय से जुड़ा मामला है. गृह मंत्री अनिल विज योग्य और सक्षम व्यक्ति हैं. जिस प्रकार की बात विज ने कही, मुझे लगता हमने उनके साथ काम किया है और गृह मंत्रालय के गृह विभाग के जो पिछली सरकार के कार्यकाल में हमारे अनुभव आए, उनसे हम इस बात से सहमत जरूर हैं, कई चीजों में सुधार की गुंजाइश है. सीआईडी की कार्यप्रणाली में भी सुधार की आवश्यकता है. 

कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि एक सीनियर मोस्ट और अनुभवी व्यक्ति गृह मंत्रालय का काम देख रहे हैं और उसमें सुधार लाने में सक्षम हैं. सीआईडी जो गृह विभाग का हिस्सा है, उसकी कार्यप्रणाली में भी जो कमियां सामने आती रही हैं, गृहमंत्री विज निश्चित तौर पर सुधार ला सकेंगे, ऐसा मेरा मानना है.

केजरीवाल पर चुटकी, बोले जनता लेगी अब हिसाब
दिल्ली चुनाव से जुड़े सवाल पर कैप्टन अभिमन्यु ने कहा कि आम आदमी पार्टी की सरकार का गठन जिन मूल्यों, सिंद्धातों और उसूलों पर हुआ था, वह उससे कहीं दूर चली गई है. पार्टी के मूल संस्थापक ही केजरीवाल सरकार कार्यप्रणाली पर प्रश्नचिन्ह लगा रहे हैं. केजरीवाल सरकार पिछले 5 साल से कुशासन करने में लगी है. केजरीवाल केवल राजनीति बयानबाजी करने में लगे रहे और अपनी नाकामियों का ठीकरा केंद्र की मोदी सरकार पर फोड़ते रहे. उन्होंने आरोप लगाया कि केजरीवाल तुष्टीकरण, जात-पात तथा अवसरवादिता की राजनीति करते हैं. केजरीवाल ने धारा 370, सीएए, जेएनयू, जामिया प्रकरण हो हमेशा देशहित को न देखते हुए राजनीतिक बयानबाजी करते हुए अपनी स्वार्थसिद्धि को पूरा करने का काम किया है. पूर्व वित्तमंत्री ने कहा कि  दिल्ली चुनाव के लिए भाजपा उम्मीदवार की जो पहली सूची आई है, उससे स्पष्ट तौर पर दिल्ली में भाजपा की सरकार आती दिखाई दे रही है.

हुड्डा पर कसा तंज
पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा एसवाईएल के मुद्दे पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल की भूमिका पर सवाल उठाने से जुड़े बयान पर पूर्व वित्तमंत्री ने कहा कि एसवाईएल जल्द बने, रावी व्यास का हरियाणा को उसके हिस्से का पानी मिले, प्रदेश की राजनीति पार्टियों में मत विभिन्नता नहीं होनी चाहिए और इसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए. कम से कम उनका  एसवाईएल पर राजनीति करने का कोई अधिकार नहीं है. हुड्डा 10 साल सत्ता में रहे और सुप्रीम कोर्ट में एसवाईएल पर एक भी सुनवाई नहीं करवा पाए. उन्होंने कहा कि एसवाईएल के मुद्दे पर वे मुख्यमंत्री मनोहर लाल को नसीहत देने की बजाय पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह को वक्त रहते दे देते या आज दे देते तो इसके समाधान में उनके सहयोग का स्वागत करते. गौरतलब है कि हुड्डा ने आज हिसार में ही एसवाईएल पर सीएम मनोहर लाल को सक्रियता पर सवाल उठाए थे.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.