Breaking News
  • गुजरात के दो कांग्रेसी विधायकों ने राज्य की चार सीटों के लिए राज्यसभा चुनाव से पहले इस्तीफा दिया
  • इस तरह गुजरात में कांग्रेस के सात विधायक अब तक इस्‍तीफा दे चुके हैं

सीजेआई ने केजरीवाल के सम-विषम संख्या योजना का समर्थन किया

प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने रविवार को प्रदूषण पर लगाम कसने के लिए आम आदमी पार्टी (आप) सरकार की निजी वाहनों के लिए सम विषम संख्या योजना को परोक्ष रूप से मंजूरी देते हुए कहा कि अगर यह समस्या को कम करने में मदद करती है तो इसका पालन किया जा सकता है।

नई दिल्ली : प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर ने रविवार को प्रदूषण पर लगाम कसने के लिए आम आदमी पार्टी (आप) सरकार की निजी वाहनों के लिए सम विषम संख्या योजना को परोक्ष रूप से मंजूरी देते हुए कहा कि अगर यह समस्या को कम करने में मदद करती है तो इसका पालन किया जा सकता है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस बयान का स्वागत किया है। न्यायमूर्ति ठाकुर ने शहर की वायु गुणवत्ता के चिंताजनक स्तर के बीच घोषित महत्वाकांक्षी कदम पर टिप्पणी करते हुए कहा कि समस्या गंभीर है और प्रदूषण नियंत्रित करने के लिए बड़े उपाय करने की जरूरत है।

यह पूछे जाने पर कि शीर्ष अदालत के न्यायाधीश इस नीति का पालन करेंगे या नहीं, उन्होंने कहा, ‘‘अगर यह प्रदूषण कम करने में मदद करता है तो हम ऐसा करना पसंद करेंगे।’’ सीजेआई ने यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘‘इसमें कोई मुश्किल नहीं है। मुझे लगता है कि यह मात्र न्यूनतम है जिसे हम कर सकते हैं। लोग इसे त्याग करते हैं। यह त्याग नहीं है, यह सांकेतिक है कि न्यायाधीश इसे कर रहे हैं।’’ यह पूछे जाने पर कि सीजेआई इसका कैसे अनुसरण करेंगे, न्यायमूर्ति ठाकुर ने कहा कि वह उनके पड़ोस में रहने वाले न्यायाधीश न्यायमूर्ति एके सीकरी के साथ कार साझा कर सकते हैं।

प्रधान न्यायाधीश के नजरिये पर प्रतिक्रिया देते हुए, केजरीवाल ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘सम विषम नियम को सीजेआई का समर्थन स्वागतयोग्य और उत्साहजनक है। उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों द्वारा एक दूसरे की कार साझा करने से लाखों लोग इससे प्रेरित होकर इसका अनुसरण करेंगे। धन्यवाद, माय लॉर्डस।’’