दिल्ली में कम हुए कोरोना के मामले, ​होटलों में बने कोविड केयर सेंटर होंगे डी-लिंक

दिल्ली में कोरोना (coronavirus) का कहर धीरे- धीरे काबू में आने लगा है. पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के 1035 नए मामले सामने आए. वहीं 1126 लोग ठीक हो गए.  

दिल्ली में कम हुए कोरोना के मामले, ​होटलों में बने कोविड केयर सेंटर होंगे डी-लिंक

नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना (coronavirus) का कहर धीरे- धीरे काबू में आने लगा है. पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के 1035 नए मामले सामने आए. वहीं 1126 लोग ठीक हो गए. इस दौरान 26 लोगों की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई. 

कोरोना से ठीक होने की दर 88.99 प्रतिशत
जानकारी के मुताबिक दिल्ली में कोरोना संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 1 लाख 33 हजार 310 हो गई है. वहीं ठीक होने वाले मरीजों की तादाद 1 लाख 18 हजार 633 हो गई है. दिल्ली में कोरोना से अब तक 3907 लोगों की मौत हो चुकी है. दिल्ली में कोरोना से ठीक होने की दर 88.99 प्रतिशत है. यहां पर करीब 6 हज़ार लोग होम आइसोलेशन में रह रहे हैं. 

कोविड केयर सेंटर बने होटलों को डी- लिंक करने का फैसला
दिल्ली में कोरोना की स्थिति सुधरते देख केजरीवाल सरकार ने अब होटलों में बने कोविड केयर सेंटरों को डी-लिंक करने का फैसला किया है. सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि होटलों में बनाए गए केयर सेंटरों में मरीज नहीं हैं. इसलिए होटल संचालकों ने इन कोविड केयर सेंटरों को डी-लिंक करने के लिए सरकार से अपील की थी. उनकी अपील और हालात में सुधार को देखते हुए दिल्ली में खाली पड़े होटलों को डी-लिंक किया जा रहा है.

पिछले महीने तीन दर्जन होटलों में बनाए थे कोविड केयर सेंटर
बता दें कि पिछले महीने की शुरूआत में दिल्ली में कोरोना के मामले बढ़े थे. इसे देखते हुए दिल्ली सरकार ने सरकारी और निजी अस्पतालों में कोविड बेड बढ़ाने के साथ ही करीब तीन दर्जन होटलों में भी कोविड केयर सेंटर स्थापित किए थे. हालांकि शुरूआत में कुछ होटल मालिक दिल्ली सरकार के फैसले के खिलाफ कोर्ट चले गए. लेकिन वहां दिल्ली सरकार को जीत मिली थी. केस बढ़ने के दौरान काफी मरीजों को होटलों में रखा गया था. लेकिन अब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के प्रयासों से दिल्ली में कोरोना की स्थिति में काफी सुधार आ गया है और फिलहाल करीब 10 हजार केस ही सक्रिय हैं. दिल्ली सरकार ने 15 हजार से अधिक कोविड बेड का इंतजाम कर रखा है. जिसमें से 12 हजार से अधिक बेड खाली पड़े हैं

उन्होंने यह भी कहा कि अगर किसी मरीज का एंटीजन टेस्ट निगेटिव है. लेकिन उसमें लक्षण हैं तो उसका आरटी- पीसीआर टेस्ट किया जाएगा. उन्होंने अधिकारियों से इन दिशा निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित  करने का निर्देश भी दिया. 

ये भी देखें-

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.