हरियाणा में 10 साल पुराने 6 लाख वाहनों पर लगेगा बैन, CPCB की वेबसाइट पर उपलब्ध है डाटा

सीपीसीबी ने अपनी वेबसाइट पर कहा है कि 15 साल से पुराने 2,87,613 पेट्रोल वाहनों, जबकि 10 साल से पुराने 3,07,453 डीजल वाहनों को चिन्हित किया गया है.

हरियाणा में 10 साल पुराने 6 लाख वाहनों पर लगेगा बैन, CPCB की वेबसाइट पर उपलब्ध है डाटा
फाइल फोटो

नई दिल्ली: केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने 10 साल से ज्यादा पुराने करीब 6 लाख डीजल और पेट्रोल वाहनों की सूची तैयार की है जिन्हें हरियाणा में चलने की अनुमति नहीं होगी. इस सूची में एनसीआर के शहरों गुड़गांव, सोनीपत और बहादुरगढ़ सहित हरियाणा के इन वाहनों की पंजीकरण संख्या, प्राधिकरण का नाम और पंजीकरण का सीरीज भी दिया गया है. सीपीसीबी ने अपनी वेबसाइट पर कहा है कि 15 साल से पुराने 2,87,613 पेट्रोल वाहनों, जबकि 10 साल से पुराने 3,07,453 डीजल वाहनों को चिन्हित किया गया है.

एजेंसी के आंकड़े के अनुसार, दिल्ली में हवा की क्वालिटी खराब चल रही है. यहां एयर क्वालिटी इंडेक्स 323 दर्ज किया गया. शून्य से 50 अंक तक एयर क्वालिटी इंडेक्स को ‘‘अच्छा’’, 51 से 100 तक ‘‘संतोषजनक’’, 101 से 200 तक ‘‘मध्यम’’, 201 से 300 के स्तर को ‘‘खराब’’, 301 से 400 के स्तर को ‘‘बहुत खराब’’ और 401 से 500 के स्तर को ‘‘गंभीर’’ श्रेणी में रखा जाता है. सीपीसीबी के अनुसार दिल्ली के 25 इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स ‘बेहद खराब’ की श्रेणी में है, जबकि 11 क्षेत्रों में यह खराब की श्रेणी में है.

दिल्‍ली में अब नहीं चलेंगे 15 साल पुराने डीजल वाहन, NGT ने कहा- ऐसे वाहनों को पहले डी-रजिस्‍टर करें

इसमें कहा गया कि पीएम 2.5 का स्तर 179 रहा, वहीं पीएम 10 का स्तर 338 दर्ज किया गया. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) , गाजियाबाद, फरीदाबाद और नोएडा में वायु गुणवत्ता ‘बेहद खराब’ रही. वहीं, गुडगांव में यह ‘खराब’ की श्रेणी में रही. भारतीय ट्रॉपिकल मेट्रोलॉजिकल इंस्टीट्यूट के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी में धुंध की चादर लिपटी हुई है और हवा की गति तथा वेंटिलेशन इंडेक्स प्रदू षक तत्वों के हटने के अनुकूल नहीं है.

(इनपुट-भाषा)