close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

तीस हजारी हिंसा: DCP का दावा- लॉकअप तोड़ कर अंदर घुसना चाहते थे वकील, स्टाफ को पीटना चाहते थे

अपने साथ हई मारपीट पर डीसीपी ने कहा, 'हमें अपने अपने पद और गरिमा को देखते हुए संयम बरतना पड़ता है. कानून व्यवस्था का ध्यान रखान पड़ता है.' 

तीस हजारी हिंसा: DCP का दावा- लॉकअप तोड़ कर अंदर घुसना चाहते थे वकील, स्टाफ को पीटना चाहते थे
(फाइल फोटो -A NI)

नई दिल्ली: तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) को लेकर डीसीपी (DCP) हरेंद्र सिंह ने बड़ा खुलासा किया है. डीसीपी सिंह ने कहा है कि वकील (lawyers) लॉकअप को तोड़कर अंदर घुसने चाहते थे और वे स्टाफ को निशाना बनाना चाहते थे. तीस हजारी कोर्ट में झड़प के दौरान अपने साथ हुई मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद डीसीपी हरेंद्र सिंह ने पहली बार प्रतिक्रिया दी है. 

वीडियो सामने आने के बाद उन्होंने कहा, 'वहां पर सैकड़ों की तदाद में वकील थे जो लॉकअप तोड़कर अंदर घुसना चाह रहे थे. वकील स्टाफ को पीटना चाह रहे थे. उन्होंने कहा, हमें अपने अपने पद और गरिमा को देखते हुए संयम बरतना पड़ता है. कानून व्यवस्था का ध्यान रखान पड़ता है. 

पुलिस अधिकारी ने कहा, 'हम भी अगर उनकी तरह व्यवहार करेंगे तो ठीक नही होगा. उनके हाथ मे ब्लेट, डंडा सबकुछ था वो पीट भी रहे थे. उन्होंने डीसीपी नॉर्थ मोनिका भारद्वाज के साथ बदसलूकी पर उन्होंने कहा, महिला डीसीपी से बदसलूकी पर एफआईआर होनी होना चाहिए. 

बता दें तीस हजारी हिंसा का एक और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है. इस वीडियो में देखा जा सकता है कि वकीलों ने डीसीपी नॉर्थ वकीलों के साथ भी बदलसलूकी. वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि डीसीपी मोनिका भारद्वाज ने वकीलों से शांति की अपील की लेकिन इसका वकीलों पर कुछ असर नहीं हुआ. 

गौरतलब है दिल्ली हाईकोर्ट के आदेश के बाद जिन दो अफसरो को उनके पद से हटाया गया उनमें हरेंद्र कुमार भी थे. जिस समय तीस हजारी कोर्ट में हिंसक झड़प हुई थी उस वक्त तक हरेंद्र कुमार उतरी एडिशनल डीसीपी के तौर पर तैनात थे लेकिन इस घटना के बाद उन्हें डीसीपी रेलवे बनाया गया है. वहीं संजय सिंह को उत्तरी परिक्षेत्र के विशेष पुलिस आयुक्त लॉ एंड ऑर्डर पद से हटाकर लाइसेंसिंग और ट्रांसपोर्ट ब्रांच में भेजा गया है.