10 जनवरी से पहले बज सकती है दिल्ली में विधानसभा चुनाव की डुगडुगी

चुनाव तिथियों की घोषणा के साथ ही दिल्ली में आदर्श आचार संहिता भी लागू हो जाएगी.

10 जनवरी से पहले बज सकती है दिल्ली में विधानसभा चुनाव की डुगडुगी
अरविंद केजरीवाल सरकार के पांच साल अगले साल 14 फरवरी को पूरे होने हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: झारखंड विधानसभा चुनाव (Jharkhand Assembly Election) के नतीजे 23 दिसंबर को आने के कुछ समय बाद ही दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections) के लिए आयोग की डुगडुगी बज जाएगी.

चुनाव आयोग के सूत्रों का कहना है कि 10 जनवरी तक चुनाव कार्यक्रम घोषित हो सकते हैं. चुनाव तिथियों की घोषणा के साथ ही दिल्ली में आदर्श आचार संहिता भी लागू हो जाएगी.

अगले महीने संहिता भी लागू होने की संभावना को भांपते हुए दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने भी लंबित काम शुरू करने की रफ्तार बढ़ा दी है. वजह कि आचार संहिता लागू होने पर सरकार नए काम नहीं शुरू कर सकती. 16 दिसंबर से 11 हजार स्थानों पर वाई-फाई सुविधा शुरू करने की घोषणा को इसी से जोड़कर देखा जा रहा है.

14 फरवरी को केजरीवाल के पांच साल पूरे
अरविंद केजरीवाल सरकार के पांच साल अगले साल 14 फरवरी को पूरे होने हैं और इससे पहले चुनाव होना है. ऐसे में पूरी चुनाव प्रक्रिया के लिए आयोग को कम से कम एक महीना पहले कार्यक्रम घोषित करना पड़ेगा. इसमें राजनीतिक दलों को चुनाव प्रचार के लिए वक्त मिलने से लेकर मतदान और मतगणना पूरी प्रक्रिया शामिल होगी.

पिछली बार 7 फरवरी को मतदान हुआ था
सूत्रों का कहना है कि इस बार आयोग कुछ पहले चुनाव प्रक्रिया करा लेना चाहता है. पिछली बार 12 जनवरी को चुनाव कार्यक्रम घोषित हुआ था और सात फरवरी को मतदान हुआ था.

आयोग से जुड़े सूत्र बता रहे हैं कि इस बार 10 जनवरी से पहले ही चुनाव कार्यक्रम घोषित होने की संभावना है. सत्ताधारी आम आदमी पार्टी, भाजपा और कांग्रेस भी संभावित चुनाव तिथियों को ध्यान में रखते हुए अपनी-अपनी तैयारियों में जुट गई हैं.

(इनपुट-आईएएनएस)