6 घंटे के इंतजार के बाद अरविंद केजरीवाल ने नई दिल्‍ली सीट से भरा नामांकन

इससे पहले उनके नामांकन को लेकर भी सत्‍ता पक्ष और विपक्ष में सियासत हुई.

6 घंटे के इंतजार के बाद अरविंद केजरीवाल ने नई दिल्‍ली सीट से भरा नामांकन
नई दिल्ली विधानसभा सीट पर बीजेपी ने सुनील यादव और कांग्रेस ने रोमेश सभरवाल को प्रत्याशी बनाया है. फाइल फोटो

नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 (Delhi Assembly Election 2020) के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल को नामांकन भरने के लिए छह घंटे का लंबा इंतजार करना पड़ा. इससे पहले उनके नामांकन को लेकर भी सत्‍ता पक्ष और विपक्ष में सियासत हुई. दरअसल सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा था कि वे अपना नामांकन दाखिल करने के लिए इंतजार कर रहे हैं. उन्होंने ट्वीट किया, "पर्चा दाखिल करने का इंतजार कर रहा हूं, मेरा टोकन नंबर 45 है.

डिप्‍टी सीएम मनीष सिसोदिया ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि साजिश के तहत अरविंद केजरीवाल को नामांकन नहीं करने दिया जा रहा है. उन्‍होंने ट्वीट कर कहा कि बीजेपी वालों, चाहे जितनी साजिश कर लो! अरविंद केजरीवाल को ना नामांकन भरने से रोक पाओगे और न ही तीसरी बार दिल्ली का मुख्यमंत्री बनने से... आपकी साजिशें कामयाब नहीं होंगी.  बीजेपी ने केजरीवाल से पहले आज 45 उम्मीदवार पर्चे भरने के लिए लाइन में लगा दिए हैं. चुनाव आयोग जानबूझकर हर उम्मीदवार को आधा या एक घंटा दिए जा रहा है, जिसके कागज पूरे नहीं है उसे भी, जिसके प्रस्तावक नहीं है उनको भी, ताकि अरविंद केजरीवाल को पर्चा भरने से रोका जा सके.

वहीं आप के नेता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि करीब 35 प्रत्‍याशी यहां ऐसे बैठे हैं जिनका नामांकन पेपर भी सही तरीके से नहीं भरा है. उनके पास 10 प्रस्‍तावकों के नाम भी नहीं हैं. उनका कहना है कि जब तक उनके कागजात नहीं पूरे हो जाते और नामांकन नहीं भर लेते तब तक वे अरविंद केजरीवाल को नामांकन नहीं करने देंगे. इन लोगों के पीछे बीजेपी है.. इस पर बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने सौरभ भारद्वाज पर हमला करते हुए कहा कि क्‍या वह चुनाव आयोग हैं?

केजरीवाल परिवार के साथ नामांकन करने पहुंचे हैं. नई दिल्ली विधानसभा सीट पर बीजेपी ने सुनील यादव और कांग्रेस ने रोमेश सब्‍बरवाल को प्रत्याशी बनाया है. राजनीतिक गलियारे में चर्चा है कि बीजेपी और कांग्रेस ने सीएम केजरीवाल के खिलाफ किसी मजबूत नेता को प्रत्याशी नहीं बनाया है.

केजरीवाल तीसरी बार इस सीट पर जीतना चाहेंगे. वे इससे पहले 2013 में 53.46 प्रतिशत और 2015 में 64.34 प्रतिशत मत हासिल कर जीत हासिल कर चुके हैं. दिल्ली विधानसभा के चुनाव आठ फरवरी को होंगे और मतगणना 11 फरवरी को होगी.

केजरीवाल सोमवार को अपना नामांकन दाखिल करने वाले थे. हालांकि रोड शो में देरी के कारण उप जिलाधिकारी के कार्यालय पहुंचने में देरी होने पर उन्होंने अपना नामांकन स्थगित कर दिया था. नामांकन से पहले केजरीवाल ने रोड शो किया था और वे जामनगर हाउस में रिटर्निग ऑफिसर के पास निर्धारित समत अपराह्न तीन बजे तक नहीं पहुंच सके थे.

ये वीडियो भी देखें: