close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली: क्राइम ब्रांच के अधिकारी बन पहुंचे ज्वैलरी शोरूम, एक गलती ने पहुंचाया हवालात

पुलिस ने एक दंपत्ति और उनकी एक महिला साथी को गिरफ्तार किया है.

दिल्ली: क्राइम ब्रांच के अधिकारी बन पहुंचे ज्वैलरी शोरूम, एक गलती ने पहुंचाया हवालात

नई दिल्ली: सुभाष प्लेस थाना पुलिस (Police) ने क्राइम ब्रांच (crime branch) का अधिकारी बताकर एक ज्वैलर से पांच लाख रुपये की उगाही की कोशिश कर रहे एक दंपति और इनकी एक महिला सहयोगी को गिरफ्तार किया है. इनके पास से प्रेस के पहचान पत्र और चार मोबाइल फोन मिले हैं. पुलिस आरोपियों को रिमांड पर लेकर इनकी आपराधिक रिकार्ड की जांच कर ही है. 

नॉर्थ-वर्स्ट डिस्ट्रीक्ट की डीसीपी विजयंता आर्या ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों की पहचान दीपक कुमार, उसकी पत्नी ज्योति और सहयोगी पूनम के रूप में हुई है. 

राजेश की दुकान पर पहुंचे थे तीनों 
उस्मानपुर निवासी राजेश यादव की पीतमपुरा स्थित पर्ल ओमेक्स प्लाजा टॉवर में ज्वैलरी की दुकान है. रविवार को उनकी दुकान में एक युवक दो महिलाओं के साथ पहुंचा. तीनों ने राजेश को दुकान में रखे जेवरात का हिसाब किताब देने के लिए कहा. राजेश के पूछे जाने पर उनलोगों ने बताया कि वह क्राइम ब्रांच के अधिकारी हैं.

आरोपियों ने पीड़ित से पांच लाख रुपये की मांग की. राजेश ने उनसे पहचान पत्र दिखाने के लिए कहा, इस पर आरोपियों ने क्राइम ब्यूरो लिखा हुआ एक पहचान पत्र दिखाया. लेकिन राजेश को इस बात की जानकारी थी कि दिल्ली पुलिस में इस नाम से कोई विभाग नहीं है.

राजेश ने तीनों को बातों में उलझाकर रखा
राजेश ने आरोपियों को बातों में उलझाकर पुलिस को घटना की जानकारी दी तभी एसएचओ सतीश कुमार के नेतृत्व में पुलिस टीम मौके पर पहुंची. छानबीन करने के बाद पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. 

पुलिस जांच में पता चला कि शास्त्री नगर, गाजियाबाद निवासी दीपक और ज्योति पति-पत्नी हैं जबकि मंडोली निवासी पूनम सेट्ठी नेशनल क्राइम इंटेलीजेंस ब्यूरो नाम से एक एनजीओ चलाती है.

दीपक रियल इस्टेट व टूर ट्रैवल कारोबार कर चुका है. कुछ महीने से बेरोजगार है और कर्ज से परेशान था. सोशल मीडिया के जरिए पूनम से मिलने के बाद उगाही करने लगा. ज्योति इलाहाबाद यूनिर्वसिटी से पीजी कर चुकी है. पति के बेरोजगार होने के बाद नौकरी की तलाश कर रही थी. 

दीपक ने उसकी मुलाकात पूनम से करवाई और फिर जल्द रुपये कमाने के लिए वह वारदात में शामिल हो गई. पूनम सेट्ठी 12 वीं पास है. आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने की वजह से वह लोगों को ब्लैकमेल कर उगाही करने लगी.