दिल्ली वालों के लिए जरूरी खबर, सिर्फ इस टर्मिनल से उड़ेंगी फ्लाइट्स

दिल्ली से सुबह 4:30 बजे पहली फ्लाइट उड़ेगी. पहले चरण में 28 फ्लाइटें उड़ाई जाएंगी. यात्रियों को बोर्डिंग पास साथ लाने की सलाह दी गई है. 

दिल्ली वालों के लिए जरूरी खबर, सिर्फ इस टर्मिनल से उड़ेंगी फ्लाइट्स
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: लॉकडाउन 4.0 (Lockdown 4.0) में कई रियायतें मिलने के बाद अब सोमवार यानी 25 मई से घरेलू उड़ानें (Domestic Flights) भी शुरू होने जा रही हैं. ऐसे में अगर आपने भी टिकट बुक करा ली है और यात्रा के लिए तैयार हैं. तो इससे पहले हम आपको कुछ अहम जानकारियां देने जा रहे हैं. 

दिल्ली से यात्रा शुरू करने वालों के लिए सबसे जरूरी बात यह है कि सभी फ्लाइटों का संचालन टर्मिनल 3 से होगा. दिल्ली से सुबह 4:30 बजे पहली फ्लाइट उड़ेगी. पहले चरण में 28 फ्लाइटें उड़ाई जाएंगी. यात्रियों को बोर्डिंग पास साथ लाने की सलाह दी गई है. यानी कि आप यात्रा से पहले अपना वेब चेक इन जरूर कर लें. एयरपोर्ट पर थर्मल कैमरों से टेंपरेचर लिया जाएगा. साथ ही आपके फोन में आरोग्य सेतु ऐप होना जरूरी है.

आपको बता दें कि घरेलू उड़ानों के लिए जरूरी गाइडलाइन्स पहले ही जारी की जा चुकी हैं. एक-तिहाई क्षमता के साथ फ्लाइटों का संचालन धीरे-धीरे शुरू किया जाएगा. हवाई अड्डे पर फिजिकल चेक-इन नहीं होगा. सभी यात्रियों को फेस मास्क पहनना अनिवार्य होगा.

केंद्रीय नागरिक उड्ड्यन मंत्री हरदीप पुरी (Hardeep singh Puri) ने बताया है कि रूट्स को 7 सेक्शन में बांटा गया है, उसी के आधार पर किराया लिया जाएगा. दिल्ली से मुंबई का किराया यात्रा के लिए कम से कम 3,500 और अधिकतम 10 हजार होगा, जो 90 मिनट से 120 मिनट की कैटिगरी में आती है. 

7 सेक्शन में बांटे गए रूट्स
40 मिनट से कम समय लेने वाले रूट्स
40 से 60 मिनट का समय लेने वाले रूट्स
60-90 मिनट का समय लेने वाले रूट्स
90 से 120 मिनट का समय लेने वाले रूट्स
2 से 2.50 घंटे का समय लेने वाले रूट्स
2.50 से 3 घंटे का समय लेने वाले रूट्स
3 से 3.5 घंटे का समय लेने वाले रूट्स

हरदीप पुरी ने मिडल सीट खाली रखने के सवाल पर कहा, उड़ान के दौरान बीच की सीट खाली नहीं जाएगी. अगर मिडिल सीट खाली छोड़ दें तो इसका भार यात्रियों पर जाएगा. विमानन मंत्री ने कहा कि हम वंदे भारत अभियान के तहत विदेशों में फंसे 20,000 से अधिक भारतीय नागरिकों को विमानों से वापस लाए. लॉकडाउन प्रभावी साबित हुआ है, भारत उन देशों में शामिल है जहां कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की संख्या दुनिया में सबसे कम है.  

ये भी देखें-