close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली : नवजात बच्चों का सौदा करने वाला गैंग गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच को 14 अगस्त को जानकारी मिली थी कि नारायण के इंद्रपुरी इलाके में एक नवजात बच्चे को चोरी करने के बाद छुपाकर रखा गया है.

दिल्ली : नवजात बच्चों का सौदा करने वाला गैंग गिरफ्तार
फाइल फोटो

नई दिल्लीः दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे रैकेट का पर्दाफ़ाश किया है जो गरीब घर के नवजात शिशुओं को उनके माता-पिता से खरीदकर दिल्ली सहित देश के दूसरे राज्यों की नि:संतान दम्पत्ति को 2 से 5 लाख रुपए में बेचने का धंधा करता था. इस गैंग को रंगेहाथ पकड़ने के लिए पुलिस खुद निःसंतान ग्राहक बनकर पहुंची और गैंग के सरगना को भी गिरफ़्तार किया.

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच को 14 अगस्त को जानकारी मिली थी कि नारायण के इंद्रपुरी इलाके में एक नवजात बच्चे को चोरी करने के बाद छुपाकर रखा गया है. जिसके बाद पुलिस ने एक टीम बनाई और जांच शुरू की. इस दौरान एक नाम सामने आया, वो नाम था रैकेट के एक मास्टरमाइंड जहांगीर का. जहांगीर दिल्ली का ही रहने वाला है. अब पुलिस खुद निःसंतान दम्पत्ति बनकर जहांगीर से मिलने पहुंची और एक एक बच्चे का सौदा करने लगी. शुरुआत में तो जहांगीर टालता रहा. लेकिन जब वो जहांगीर को लगने लगा की दम्पत्ति को वाकई बच्चे की जरूरत है. तो वह बच्चे का दाम बताकर बच्चे दिलवाने के लिए राजी हो गया.

पुलिस को लीड मिल चुकी थी. जिसके बाद पुलिस जहागीर की मदद से इस रैकेट के बाकी लोगों तक पहुंच जाती है और फिर 3 महिलाओं सहित कुल 12 लोग गिरफ्तार किये गए. गिरफ्तार लोगों दो ऐसे नि:संतान पिता भी है जिन्होंने इस रैकेट से 2 से 5 लाख रुपये में बच्चा खरीदा था.

साउथ दिल्ली के क्लिनिक से भी है लिंक
यही नहीं साउथ दिल्ली से एक क्लीनिक के एक मैनेजर को भी गिरफ्तार किया गया है. दरअसल गिरफ्तार मैनेजर ही वो कड़ी था जो रैकेट के लिए नि:संतान दम्पत्ति मुहैया करवाता था. पुलिस ने चार बच्चों को भी बरामद किया है. जिसमें एक बच्चे की हालत बहुत नाजुक थी और उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई. बाकी बरामद बच्चों को चाइल्ड होम में रखा गया है. सीडब्ल्यूसी को भी मामले से अवगत करवाया गया है. सभी आरोपी जेल भेज दिए गए है एक पिता को जमानत मिल गई है. ये रैकेट अस्पताल में अपने एजेंट्स गरीब परिवार पर नजर रखता था और मौका लगते ही पैसों के जरूरतमंद लोगों को पैसे के लालच में बच्चे को बेचने पर मजबूर कर लेता था. बताया जा रहा है इस रैकेट से जुड़े कुछ लोगों की गिरफ्तारी के लिए प्रयास जारी है..पकड़े गए लोगो के पास से नकली सरकारी अलग-अलग प्रमाण पत्र भी बरामद किये गए है.