बिना राशन कार्ड वालों को 5-5 किलो राशन मुफ्त देगी दिल्ली सरकार, 10 लाख लोगों को मिलेगा फायदा

राशन बांटने के लिए 421 स्कूलों को चिन्हित किया गया है. 

बिना राशन कार्ड वालों को 5-5 किलो राशन मुफ्त देगी दिल्ली सरकार, 10 लाख लोगों को मिलेगा फायदा
अरविंद केजरीवाल का फाइल फोटो।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) के मद्देनजर जारी लॉकडाउन (Lockdown) में लोगों की परेशानियों को दूर करने के लिए केजरीवाल सरकार ने बिना राशन कार्ड (Rashan Card) वाले लोगों को भी राशन मुहैया कराने का फैसला लिया है. लोगों को कल यानी 7 अप्रैल से इसका लाभ मिलना शुरू हो जाएगा. 

सीएम केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने बताया कि दिल्ली में 71 लाख राशन कार्ड धारकों को लॉकडाउन के समय प्रतिव्यक्ति 7.5 किलो राशन मुफ्त दिया जा रहा है. लेकिन ऐसे बहुत लोग हैं जो गरीब हैं और उन्हें खाने की दिक्क्त हो रही है. ऐसे लोगों को राशन बांटने के लिए 421 स्कूलों को चिन्हित किया गया है, जहां 7 अप्रैल से मुफ्त राशन बांटना शुरू किया जाएगा.  

उन्होंने बताया कि प्रतिव्यक्ति 5 किलो राशन मुफ्त दिया जाएगा, जिसमें 4 किलो गेंहू और एक किलो चावल होंगे. उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि इसका लाभ 10 लाख लोगों को मिलेगा और लोग पेटभर खाना खायेंगे और दिल्ली में कोई भूखा नहीं सोएगा. केजरीवाल ने बताया कि जरूरत पड़ने पर केंद्र सरकार से  और राशन मुहैया कराया जाएगा. इस मामले में केंद्र सरकार का भी पूरा सहयोग मिल रहा है. 

ये भी पढ़ें:- दिल्ली में 24 घंटे में कोरोना के 20 नए मामले, कुल 523 लोग संक्रमित: केजरीवाल

इस फैसले को जमीनी स्तर पर सफल बनाने के लिए दिल्ली के सभी विधायक, सांसद, काउंसलर आदि लोग मदद करेंगे और ये भी सुनिश्चित करेंगे कि वितरण स्थल पर भीड़ ना हो और सामाजिक दूरी का पालन किया जाए. उन्होंने बताया कि राशन का वितरण तब तक किया जाएगा, तब तक एक-एक व्यक्ति को इस लाभ नही मिल जाता है.

केंद्र सरकार ने 27 हजार पीपीई किट आवंटित किया
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं पिछले कई दिनों से कह रहा था कि हमारे पास पीपीई किट्स की कमी है. जिसके लिए केंद्र सरकार की हमारे पास एक चिट्ठी आई है, जिसमें उन्होंने कहा है कि केंद्र ने दिल्ली के लिए 27 हजार पीपीई किट्स आवंटित किया है. इसके लिए हम केंद्र सरकार का शुक्रिया करते हैं. हमें उम्मीद है कि कल या परसों तक पीपीई किट्स मिल जाएगी. यह हमारे डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण कदम होगा.