स्टेडियमों को अस्थायी कोविड अस्पतालों में बदलने पर दिल्ली सरकार ने किया ये फैसला, जानिए पूरी डिटेल

दिल्ली प्रशासन ने स्टेडियमों को अस्थायी अस्पतालों में बदलने को लेकर अहम फैसला किया है.  

स्टेडियमों को अस्थायी कोविड अस्पतालों में बदलने पर दिल्ली सरकार ने किया ये फैसला, जानिए पूरी डिटेल
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: दिल्ली प्रशासन ने कोरोना वायरस (coronavirus) के मरीजों के उपचार के बाद स्वस्थ होने की अच्छी दर के मद्देनजर स्टेडियमों को अस्थायी कोविड देखभाल केंद्र के रूप में इस्तेमाल में लाने की योजना  फिलहाल स्थगित कर दी है. पूर्वी दिल्ली जिला प्रशासन के एक अधिकारी ने बताया कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए स्टेडियमों को कोविड-19 देखभाल केंद्र के रूप में तब्दील करने की जरूरत नहीं है.

उन्होंने कहा कि लेकिन आने दिनों में यदि जरूरत उत्पन्न हुई तो इन स्टेडियमों को कोविड उपचार केंद्रों में परिवर्तित किया जा सकता है.

पिछले महीने उपराज्यपाल द्वारा गठित दिल्ली सरकार के पैनल ने प्रगति मैदान, तालकटोरा इनडोर स्टेडियम, इंदिरा गांधी इनडोर स्टेडियम, जेएलएन स्टेडियम, त्यागराज इनडोर स्टेडियम और ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम को इस काम के लिए उपयोग में लाने का सुझाव दिया था.

ये भी पढ़ें: दिल्ली में कोरोना से ठीक होने वालों की संख्या में जबर्दस्त इजाफा, जानिए क्या है ताजा हाल

शनिवार को सरकार के एक अध्ययन में सामने आया कि पिछले दो सप्ताह के दौरान रोजाना होने वाली मौतों में ‘काफी कमी’ आई है. शनिवार को मरीजों के इस संक्रमण से ठीक होने की दर 79 फीसदी से अधिक थी.

पूर्वी दिल्ली जिला प्रशासन के अधिकारी ने कहा, ‘हम उनका ऐसे केंद्र के रूप में उपयोग कर सकते हैं लेकिन यह अनावश्यक कदम होगा क्योंकि कई लोग घरों में पृथक-वास में हैं और इस वायरस से मुक्त हो रहे हैं.’

दक्षिण जिला प्रशासन के एक अन्य अधिकारी ने कहा, ‘हमारी स्थिति पर पैनी नजर है. फिलहाल किसी स्टेडियम को कोविड-19 उपचार केंद्र के रूप में इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं है.’

इनपुट: भाषा

ये भी देखें-