close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Odd Even Scheme: डीटीसी किराए पर लेगी 2000 सीएनजी बसें, सरकार ने दी मंजूरी

दिल्ली परिवहन निगम को 4 नवंबर, 2019 से 15 नवंबर, 2019 तक ऑड-ईवन योजना के दौरान सार्वजनिक परिवहन सेवाओं को बढ़ाने के लिए निजी ऑपरेटरों से पर्याप्त संख्या में अतिरिक्त बसों को अटैच करने का निर्देश दिया गया है. 

Odd Even Scheme: डीटीसी किराए पर लेगी 2000 सीएनजी बसें, सरकार ने दी मंजूरी
.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: दिल्ली कैबिनेट ने गुरुवार सुबह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में हुई बैठक में ऑड ईवन के दौरान सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा देने के लिए अतिरिक्त सीएनजी संचालित बसों के संचालन को परिवहन विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी. साथ ही इसके रेट निर्धारण को भी मंजूरी दे दी. विभाग ने बताया कि वायु प्रदूषण के स्तर में कमी लाने, सड़कों की भीड़ को कम करने और 4-15 नवंबर के बीच ऑड-ईवन योजना के दिनों में सार्वजनिक परिवहन में सुधार करने के लिए दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) को सीएनजी संचालित 2,000 अनुबंध बसों को चलाने की अनुमति दी गई है.  

दिल्ली परिवहन निगम को 4 नवंबर, 2019 से 15 नवंबर, 2019 तक ऑड-ईवन योजना के दौरान सार्वजनिक परिवहन सेवाओं को बढ़ाने के लिए निजी ऑपरेटरों से पर्याप्त संख्या में अतिरिक्त बसों को अटैच करने का निर्देश दिया गया है. जैसा कि ऑड ईवन के पहले और दूसरे चरण में किया गया था.

डीटीसी इन बसों में कंडक्टर उपलब्ध कराएगा और इन बसों के संचालन से उत्पन्न राजस्व को अपने पास रखेगा. जबकि चालक और बसों के रखरखाव सहित अन्य सभी जिम्मेदारियों का वहन बस मालिक को करना होगा. निजी ऑपरेटरों को अब सार्वजनिक नोटिस के माध्यम से अपनी बसों की पेशकश करने के लिए कहा जाएगा जैसा कि 2016 में पहले दो ऑड-ईवन कार्यक्रमों के दौरान किया गया था.

कैबिनेट ने एमडी, डीटीसी द्वारा गठित समिति की सिफारिश के अनुसार बसों की विभिन्न श्रेणियों के काम पर रखने के लिए मंजूरी दी है.

1-सीएनजी आधारित 40 सीट नॉन-एसी बसें- रु. 49.42 / किलोमीटर
2- मिडी सीएनजी आधारित बसें. 30 सीट नॉन-एसी बसें - रु. 37.36 / किलोमीटर
3. मिडी सीएनजी आधारित बसें. 25 सीट नॉन-एसी बसें- रु. 32.54 / किलोमीटर
कैबिनेट ने अनुदान के रूप में घाटे की राशि (कंडक्टरों की लागत सहित) की प्रतिपूर्ति को मंजूरी दी (संचालन और राजस्व की लागत में अंतर).