close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली पर आतंकी हमले का खतरा, एजेंसियों ने ऐसे तैयार किए अभेद्य सुरक्षा चक्र

आतंकी हमले के अलर्ट को देखते हुए देश की राजधानी दिल्ली में ऐसे अभेद्य सुरक्षा चक्र तैयार किए गए हैं जिसे भेद पाना आतंकियों के बस की बात नहीं है.

दिल्ली पर आतंकी हमले का खतरा, एजेंसियों ने ऐसे तैयार किए अभेद्य सुरक्षा चक्र
बॉम डिफ्यूजर दस्ते का मॉकड्रिल.

नई दिल्ली: देश का स्वर्ग कहे जाने वाले जम्मू-कश्मीर को जैसे ही आर्टिकल 370 से आजादी मिली तो आतंक के आकाओं का वजूद भी खतरे में पढ़ गया. सियासत की आड़ में दहशत फैलाने वाले आतंक सरपरस्त की दुकानें भी बंद हो गईं. जिसको लेकर आतंकवादी संगठन अब एक बड़ी साजिश रचने में जुट गए हैं. वो देश के बड़े शहरों में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर खलल डालना चाहते हैं. इसी वजह से देश की राजधानी दिल्ली में ऐसे अभेद्य सुरक्षा चक्र तैयार किए गए हैं जिसे भेद पाना आतंकियों के बस की बात नहीं है.

आपतको बता दें कि लाल किले के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. कई चेक पॉइंट बनाए गए हैं. लोकल पुलिस के अलावा सुरक्षा यूनिट, ट्रैफिक यूनिट, NSG, SPG आर्मी के अधिकारी भी तैनात रहेंगे. इलाका सीसीटीवी कैमरे की जद में होगा. इसके अलावा यहां फेस रिकग्नाइज सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जा रहा है ताकि किसी भी सस्पेक्ट को पहचाना जा सके. 

लाइव टीवी देखें-

15 अगस्त के दिन मेट्रो की सभी लाइनें चालू रहेंगी लेकिन लाल किले की पार्किंग भी बंद कर दी गई है. ड्रोन उड़ाने पर रोक लगा दी गई है. वहीं लाल किले के आस-पास सुबह 7.30 से 8.30 तक पतंग उड़ाने पर भी रोक लगा दी गई है. सुरक्षा में 10 कंपनियां लगाई गई हैं, बाकी फोर्स भी तैनात की गई है. लाल किले के आस-पास स्नाइपर लगाए गए हैं. 5 किलोमीटर तक रेंज के HD कैमरे लगाए गए हैं. करीब 800 सीसीटीवी कैमरे लाल किले के अंदर बाहर और आसपास लगाए गए हैं.  

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद आतंकियों में बौखलाहट नजर आ रही है. उनका मकसद है देश की राजधानी में बड़ी साजिश को अंजाम तक पहुंचाना. इनपुट मिलने के बाद से ही सुरक्षा एजेंसियों के होश उड़ गए हैं. दिल्ली पुलिस के साथ पैरामिल्ट्री फोर्स की मदद से राजधानी को छावनी में तब्दील किया जा रहा है. भीड़ वाले बाजार, धार्मिक स्थल, रेलवे स्टेशन और दिल्ली की लाइफ लाइन बन चुकी मेट्रो भी आतंकियों की हिटलिस्ट में शामिल हैं. 

डिप्टी कमांडेंट रमन कुमार ने बताया कि सीआईएसएफ के स्पेशल कमांडों जिनको एनएसजी कमांडो की तर्ज पर तैयार किया गया है. इनमें शामिल महिला कमांडों भी इतनी तेज तर्रार है कि सामने वाले को सोचने का मौका देने से पहले ही खत्म कर सकती हैं. राजधानी की सुरक्षा के लिए मेट्रो स्टेशनों पर बम स्क्वॉयड तैनात किए गए हैं. अगर आपको मेट्रो में कोई लावारिस वस्तु मिले तो पैनिक न हों. तुरंत जनाकारी मेट्रो कर्मचारी या फिर CISF जवान को दें.