close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

प्‍यार में मिला धोखा तो 4 फुट के इमरान ने बनाई पौव्‍वा गैंग, अंजाम दीं 500 वारदातें

इमरान ने बताया कि वह शानदार जीवन जीना चाहता थ और अपनी प्रेमिका को प्रभावित करने के लिए पैसा चाहता था. आरोपियों ने खुलासा किया कि वे मोबाइल चेन स्नैचिंग करने के लिए बाइक चोरी करते थे.

प्‍यार में मिला धोखा तो 4 फुट के इमरान ने बनाई पौव्‍वा गैंग, अंजाम दीं 500 वारदातें

नई दिल्‍ली: अगर पुलिस ने गिरोह के किसी सदस्य को पकड़ लिया, तो गिरोह का सरगना उसे अपने गिरोह से बाहर कर देता था. उसके बदले गिरोह में नये सदस्यों को शामिल कर वारदात को अंजाम देता था. लेकिन साउथ ईस्ट डिस्‍ट्र‍िक्‍ट की स्पेशल स्टाफ फोर्स ने गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए गिरोह के सरगना समेत दो बदमाशों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार बदमाश पौव्वा गिरोह का मास्टरमाइंड है और लंबाई कम होने की वजह से इसका नाम पौव्वा पड़ गया.

गिरफ्तार आरोपियों की पहचान मोहम्मद बिलाल उर्फ पौव्वा और मोहम्मद  इमरान के रूप में हुई है. उसके पास से एक देशी पिस्टल,दो कारतूस,चोरी की बाइक, नौ स्मार्ट फोन और सोने की चेन बरामद हुई है. गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने स्नैचिंग व लूटपाट के आठ मामले सुलझाने का दावा किया है वह 500 से ज्यादा वारदात कर चुका है.

कांग्रेस अध्‍यक्ष पद की दौड़ में मनमोहन सिंह और मुकुल वासनिक का नाम सबसे आगे: सूत्र

डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने ज़ी न्यूज़ को बताया की स्नैचिंग व लूटपाट की घटनाओं पर काबू पाने के लिए एसटीएफ के एसीपी जगदीश यादव की देखरेख व इंस्पेक्टर मुकेश मोंगा के नेतृत्व में एएसआई टीम बनाई. पुलिस ने जांच के दौरान पहले वारदात में शामिल बदमाश और जेल से रिहा होने वाले अपराधियों की जानकारी इकट्ठी की. सक्रिय स्नैचरों के बारे में खुफिया जानकारी जुटाई. विभिन्न स्थानों पर जाल बिछाए. इसी बीच 14 जुलाई को मदनपुर खादर लाल बत्ती के पास एक सूचना के बाद बाइक सवार दो लड़के आते दिखाई पड़े. पुलिस ने रोककर कागज मांगे तो उनके पास कागज नहीं थे. शक के आधार पर जांच की तो उनकी पहचान बिलाल और इमरान के रूप में हुई. जांच के दौरान एक पिस्टल और कारतूस भी बरामद हुई. बाइक भी चोरी की निकली.

प्रेमिका ने धोखा दिया तो बन गया बदमाश
पूछताछ में पता चला कि बिलाल की प्रेमिका ने उसे धोखा दे दिया था.उसने अपनी प्रेमिका का नाम भी अपने हाथ पर लिख हुआ है. लेकिन धोखे से इतना दुखी हुआ कि वह अपराध की दुनिया में शामिल हो गया. इमरान ने छोटी-मोटी चोरी शुरू कर दी. बिलाल ने अपना गिरोह बनाया और वह अपने साथियों के साथ मिलकर चोरी और स्नैचिंग की वारदातों को अंजाम देने लगा. जब वह लोग पकड़े गए तब चोरी की बाइक बेचने के लिए रिसीवर के पास जा रहे थे.

प्रेमिका को अट्रेक्‍ट करने के लिए करते थे वारदात
पूछताछ में इमरान ने बताया कि दोनों शानदार जीवन जीना चाहते थे और अपनी प्रेमिका को प्रभावित करने के लिए पैसा चाहते थे. आरोपियों ने खुलासा किया कि वे मोबाइल चेन स्नैचिंग करने के लिए बाइक चोरी करते थे. आरोपी अलग-अलग सड़कों पर और अंधेरे हिस्सों पर पैदल चलने वालों को निशाना बनाते थे.