close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाबा का वेश बनाकर लूट रहा था मोबाइल, दिल्ली पुलिस ने हत्थे चढ़ा तो कबूला जुर्म

पुलिस ने बताया की जहांगीर पुरी थाने का स्टाफ पेट्रोलिंग कर रहा था. तभी एक बाबा को शक के आधार पर आउटर रिंग रोड से पकड़ा गया.

बाबा का वेश बनाकर लूट रहा था मोबाइल, दिल्ली पुलिस ने हत्थे चढ़ा तो कबूला जुर्म
बाबा लगातार पुलिस को गुमराह करता रहा, आखिरकार बाबा ने अपना जुर्म कबूल कर लिया.

नई दिल्लीः बाबा का वेश धारण कर वाहन चालकों से लिफ्ट मांगकर उनको लूटने वाले एक शातिर बाबा को राजधानी के जहांगीर पुरी इलाके से पुलिस ने गिरफ्तार किया है. आरोपी कथित बाबा की पहचान मिथुन के रूप में हुई है. अब पुलिस इस आरोपी कथित बाबा के बाकि साथियों की तलाश में छापेमारी कर रही है. पुलिस को शक है कि बाबा अपने साथियों के साथ मिलकर कई लूट की वारदातों को अंजाम दे चुका है. बाबा मिथुन नाथ दादरी गौतम बुद्ध नगर उत्तर प्रदेश का रहने वाला है.

जानकारी के मुताबिक अजय कुमार यादव पीड़ित सोनिया विहार पहला पुश्ता में परिवार के साथ रहता है. वह छोटा हाथी वाहन में आजादपुर मंडी से सामान ढोते है. अजय ने पुलिस को बताया कि वारदात वाले दिन वह दोपहर करीब डेढ़ बजे मंडी से अपने वाहन के जरिये घर खाना खाने जा रहा था. मुकुंदपुर टी-प्वाइंट के पास ही आरोपी बाबा उसे अकेले खड़ा दिखाई दिया. जिसको कोई भी वाहन चालक लिफ्ट नहीं दे रहा था. लेकिन अजय ने उस कथित बाबा को लिफ्ट दे दी. इस दौरान रास्ते में बाबा धार्मिक बातें करता रहा. अचानक बाबा ने बुराड़ी फ्लाईओवर के पास वाहन को रोकने की बात कही. ये कथित बाबा वहां पर उतर गया और  उससे पानी पीने के लिए मांगा. पानी पीने के बाद उसने चाय पीने के लिए कुछ दक्षिणा मांगी. अजय ने उसे बीस रुपये दे दिये, आशीर्वाद देकर बाबा वहां से निकलने लगा. अजय ने देखा कि उसका मोबाइल फोन जो कि ब्लूटूथ से कनेक्ट था.. उसमें गाने आना अचानक बंद हो गए थे.

Image

वाहन से उतरकर कथित बाबा को जब फोन वापिस करने की बात कही. बाबा उसी पर गुस्सा होने लगा. बाबा के झोले में जब तलाशी लेने की कोशिश की. पीछे से लाल रंग की यूपी नंबर की एसेंट कार आकर रूकी. जिसमें से तीन बदमाश उतरे और पीछे से अजय को जबरन पकड़ लिया. एक बदमाश ने उसके गले पर चाकू जैसा हथियार लगाकर भी धमकी दी. अजय की पिटाई करने के बाद बाबा उसका फोन और साढ़े चार हजार रुपये लेकर साथियों के साथ कार से फरार हो गया.

अजय ने बताया कि बुराड़ी थाने में जब बाबा के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की कोशिश की तो पुलिस ने मामला जहांगीरपुरी थाने का बताकर उसे वहां से भेज दिया. जहांगीरपुरी थाने में भी उसे बुराड़ी थाने जाने की बात कही. उसके बाद बुराड़ी थाने में ई एफआईआर दर्ज करवाई.

पुलिस ने बताया की जहांगीर पुरी थाने का स्टाफ पेट्रोलिंग कर रहा था. तभी एक बाबा को शक के आधार पर आउटर रिंग रोड से पकड़ा गया. लेकिन पुलिस उसके इस गैंग में शामिल और लोगों की तलाश कर रही है. पीडि़त ने बताया कि गुरुवार को जहांगीरपुरी थाने से उसे फोन आया. जिसमें जांच अधिकारी ने बताया कि एक बाबा मिथुन को पकड़ा है.. जो साथियों के साथ लूटपाट करता है.पीडि़त को व्हट्सअप पर फोटो भेजा गया..पीडि़त ने बाबा को पहचान लिया..थाने जाकर जब पीडि़त ने बाबा को पहचाना तो आरोपी बाबा ने उसे कहा कि बच्चा मैंने तो तुमको कभी देखा भी नहीं है..बाबा लगातार पुलिस को गुमराह करता रहा, आखिरकार बाबा ने अपना जुर्म कबूल कर लिया.