सावधान!, किसी अनजान व्यक्ति के कहने पर कोई ऐप डाउनलोड न करें: दिल्ली पुलिस

साइबर सेल ने लोगों के चेताया है कि कोई भी ईवॉलेट कंपनी कॉल करके केवाईसी वेरिफाई नहीं करती है.

सावधान!, किसी अनजान व्यक्ति के कहने पर कोई ऐप डाउनलोड न करें: दिल्ली पुलिस
फोटो साभारः @DCP_CCC_Delhi

नई दिल्ली: लगातार हो रहे साइबर अपराध पेटीएम (Paytm) या दूसरे ई-वॉलेट के जरिये धोखाधड़ी से बचने के लिए दिल्ली के साइबर सेल ट्वीट कर लोगों से सावधानी बरतने के अपील कर रही है. साइबर सेल के डीसीपी अनैश रॉय के मुताबिक राजधानी दिल्ली में लगातार पेटीएम (Paytm) के केवाईसी (KYC) के नाम पर धोखाधड़ी के मामले सामने आ रहे है. इसी के चलते दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने सोशल मीडिया के जरिए लोगों से अपील की है कि अगर कोई भी आपको पेटीएम केवाईसी की वेरिफिकेशन के नाम पर कॉल करता है या एसएमएस करता है तो उसपर भरोसा ना करें. 

यह भी पढ़ें- ...कुछ यूं अपनी बातों के जाल में फंसाकर ठग लेते थे लाखों रुपए

दिल्ली ने लोगों से यह भी कहा है कि किसी अनजान व्यक्ति के कहने पर कोई ऐप डाउनलोड ना करें. यह ऐप आपके ओटीपी और एसएमएस पढ़ सकता है. 

साइबर सेल ने लोगों के चेताया है कि कोई भी ईवॉलेट कंपनी कॉल करके केवाईसी वेरिफाई नहीं करती है.

यह भी पढ़ें- ZEE जानकारी: जानिए, आखिर KYC के नाम पर किस तरह से होती है ठगी

इसके लिए ठग आपसे संपर्क करने के लिए दो तरीके अपना रहे हैं. पहले आपको KYC के नाम पर मैसेज भेजते हैं. दूसरा ये ठग खुद ही फोन कर आपको बताते हैं कि आपके नंबर का फिर से KYC किया जा रहा है. इसके लिए अगर आप चाहते हैं तो फोन पर बात करते हुए अपना KYC करा सकते हैं.

ये ठग आपसे ये दो मोबाइल ऐप ANY DESK य़ा QUICK SUPPORT डाउनलोड कराते हैं. इन ऐप को डाउनलोड कर जैसे ही ओपन करते हैं तो उस पर 10 डिजिट का एक नंबर डिसप्ले होता है. इस नंबर को ठग पूछ लेते हैं. इस नंबर को जान लेने पर ठग भी आपके फोन स्क्रीन को अपने सिस्टम पर देखने लगते हैं.

दरअसल, रिमोट मोबाइल ऐप ऐसे होते हैं जिनके जरिए आप अपने फोन को दूर बैठे व्यक्ति को भी देखने और प्रयोग करने का अधिकार दे देते हैं. लेकिन ठग इसके जरिए आपके फोन से 1 या 10 रुपये ही वॉलेट में डलवाते हैं और आपका पिन नंबर देख लेते हैं. इस तरह आपसे बात करते हुए खाते से सारे पैसे किसी दूसरे खाते में ट्रांसफर कर लेते हैं.

ऑनलाइन पेमेंट करने वालों से ठगी के लिए सिर्फ KYC के जरिए ही नहीं बल्कि और भी तरीके आजकल अपनाए जा रहे हैं. इसके लिए ठग अपने मोबाइल नंबर को online shopping websites के कस्टमर केयर का बताते हुए गूगल पर डाल देते हैं. इसी तरह OLX पर सामान बेचने या खरीदने के नाम पर भी ठग आपको एक लिंक भेजकर ठगी कर रहे हैं.

ये वीडियो भी देखें: