close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली: प्रदूषण का स्तर घटा, करीब डेढ़ हफ्ते बाद 'मॉडरेट' श्रेणी में पहुंचा PM 2.5 का लेवल

मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ साइंस की ऐप्स सफर के मुताबिक चांदनी चौक को छोड़कर दिल्ली के सभी मॉनिटरिंग स्टेशंस पर पीएम 2.5 का स्तर मॉडरेट कैटेगरी में है.

दिल्ली: प्रदूषण का स्तर घटा, करीब डेढ़ हफ्ते बाद 'मॉडरेट' श्रेणी में पहुंचा PM 2.5 का लेवल
(फाइल फोटो, साभार, रॉयटर्स)

नई दिल्ली: दिल्ली (Delhi) में रविवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स (Air quality index) के मुताबिक पीएम 2.5 का स्तर 129 है. मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ साइंस की ऐप्स सफर के मुताबिक चांदनी चौक (Chandni Chowk) को छोड़कर दिल्ली के सभी मॉनिटरिंग स्टेशंस पर पीएम 2.5 का स्तर मॉडरेट कैटेगरी में है जबकि चांदनी चौक में वेरी पुअर कैटेगरी में बना हुआ है.

दिल्ली के अलावा गुरुग्राम (Gurugram) और नोएडा (Noida) में भी आज एयर क्वालिटी मॉडरेट की श्रेणी में है. गुरुग्राम में पीएम 2.5 का स्तर आज 127 है जबकि नोएडा में 143. शुक्रवार को दिल्ली के कुछ इलाकों में हुई बारिश और तेज हवाओं की वजह से प्रदूषण के स्तर में गिरावट आई है. शनिवार को पीएम 2.5 का स्तर पुअर कैटेगरी में था जबकि शुक्रवार को दिल्ली में पीएम 2.5 का लेवल था. 

बता दें दिल्ली में प्रदूषण की गंभीर समस्या को देखते हुए दिल्ली सरकार ने एक बार फिर ऑड ईवन को लागू करने का फैसला किया है. ऑड-ईवन नियम अगले महीने 4-15 नवंबर के बीच लागू रहेगा. 

गुरुवार (17 अक्टूबर) को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को ऑड-ईवन नियम से संबंधित कुछ प्रमुख निर्देश जारी किए. केजरीवाल ने कहा कि नियमों का उल्लंघन करने वालों को 4,000 रुपये का जुर्माना देना होगा. साल 2016 में जुर्माने की राशि हालांकि 2,000 रुपये थी.
केजरीवाल ने कहा कि वह और उनके मंत्री भी योजना के दायरे में हैं.

उन्होंने कहा, 'दिल्ली केबिनेट मंत्री और मुख्यमंत्री को भी ऑड-ईवन नियमों का पालन करना होगा.' उन्होंने कहा कि दिल्ली आने पर अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों से भी इस नियम का पालन करने की अपेक्षा है. उन्होंने कहा कि हालांकि राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और अन्य केंद्रीय मंत्री इस नियम के दायरे से बाहर रहेंगे.

दिल्ली सरकार ने प्रदूषण पर नियंत्रण पाने की कोशिश के तहत वाहनों को चलाने के विशेष नियम बनाएं हैं. महीने के ऑड (विषम) अंक की तारीख पर राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों पर सिर्फ ऑड अंक से खत्म होने वाले रजिस्ट्रेशन संख्या वाले वाहनों को चलाने की ही अनुमति दी जाएगी, वहीं ईवन (सम) अंक की तारीख पर सिर्फ सम अंक से खत्म होने वाले खत्म होने वाले रजिस्ट्रेशन संख्या वाले वाहनों को चलाने की ही अनुमति दी जाएगी.