साइबर अपराधियों ने ढूंढ निकाला ठगी का नया तरीका, वैज्ञानिक के खाते से उड़ाए इतने लाख

पुलिस के मुताबिक पीड़ित राकेश कुमार सिंह यूनिवर्सिटी रोड स्थित इंस्टिट्यूट फॉर इंडस्ट्रियल रिसर्च में वरिष्ठ वैज्ञानिक हैं.

साइबर अपराधियों ने ढूंढ निकाला ठगी का नया तरीका, वैज्ञानिक के खाते से उड़ाए इतने लाख
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: नार्थ दिल्ली के मौरिस नगर इलाके में एक वैज्ञानिक ठगी का शिकार हो गए. बदमाशों ने पीड़ित को मोबाइल सिम कार्ड अपडेट करवाने का झांसा देकर उनका मोबाइल हैक कर लिया. इसके बाद उनके खाते से अलग-अलग ट्रांजेक्शन में करीब नौ लाख रुपये उड़ा लिए. पीड़ित जब बैंक पहुंचे तो उनको ठगी का पता चला. इसके बाद उन्होंने मामले की शिकायत पुलिस से की. पुलिस ने छानबीन के बाद मामला दर्ज कर लिया है. अब पुलिस पीड़ित द्वारा उपलब्ध कराए गए मोबाइल नंबर के आधार पर आरोपियों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है.

पुलिस के मुताबिक पीड़ित राकेश कुमार सिंह यूनिवर्सिटी रोड स्थित इंस्टिट्यूट फॉर इंडस्ट्रियल रिसर्च में वरिष्ठ वैज्ञानिक हैं. राकेश का सैलरी अकाउंट कैंपस एरिया के एक निजी बैंक में है. 30 मई की दोपहर को वह अपने संस्थान में मौजूद थे. इस बीच दोपहर के समय उनके मोबाइल पर एक कॉल आया. कॉलर ने खुद को मोबाइल सेवा प्रदाता कंपनी का प्रतिनिधी बताया. आरोपी ने राकेश से कहा कि उनके फोन में 3जी सिम चल रहा है. उसको 4जी में अपडेट कराना जरूरी है. इसके लिए राकेश से कहा ‌गया कि उनको कहीं जाने की जरूरत नहीं. कुछ दिशा निर्देशों का पालन कर फोन का सिम अपडेट हो जाएगा.

ये भी पढ़ें- नशे के लिए करते थे स्नौचिंग और चोरी, पुलिस ने दो बदमाशों को ऐसे पकड़ा

पीड़ित से पांच अंकों के एक नंबर पर एसएमएस करने के लिए कहा गया. राकेश ने ऐसा ही किया. इसके बाद उनके पास दो एसएमएस आए. इन एसएमएस में कुछ और नंबर पर एसएमएस करने के लिए कहा गया. ऐसा करते ही राकेश का सिम बंद हो गया. सिम दोबारा चालू नहीं हुआ.

राकेश जब सिमकार्ड के लिए मोबाइल सेवा कंपनी के दफ्तर पहुंचे तो दोबारा उनका सिम चालू हुआ. इस बीच उन्हें बैंक से पता चला कि जितने समय उनका सिम बंद रहा. उस समय में उनके खाते में सेंध लगाकर नौ लाख रुपये उड़ा लिए गए. पीड़ित ने मामले की शिकायत पुलिस से की. अब पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू की है.