दिल्‍ली सीलिंग : जब सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा- क्‍या अमीर और गरीब के लिए अलग कानून हैं?

जस्टिस लोकुर के इस सवाल पर एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि कानून सभी के लिए समान है. इसके बाद जस्टिस लोकुर ने कहा कि कानून समान है, उसकी व्याख्या अलग है. 

दिल्‍ली सीलिंग : जब सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा- क्‍या अमीर और गरीब के लिए अलग कानून हैं?
सुप्रीम कोर्ट की फाइल फोटो...

नई दिल्‍ली : राजधानी दिल्‍ली में चल रहे सीलिंग अभियान से जुड़े मामले की सुनवाई के दौरान बुधवार को सुप्रीम कोर्ट बेहद खफा दिखा. दिल्‍ली की खान मार्किट में व्‍यवसायिक प्रतिष्‍ठानों की सीलिंग एवं तोड़फोड़ कार्रवाई से जुड़ी याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस मदन बी लोकुर ने सरकारी वकील से पूछा कि क्‍या अमीर और गरीबों के लिए अलग कानून है?

जस्टिस लोकुर के इस सवाल पर एडिशनल सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि कानून सभी के लिए समान है. इसके बाद जस्टिस लोकुर ने कहा कि कानून समान है, उसकी व्याख्या अलग है. 

ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट का दिल्‍ली के लिए बड़ा आदेश, 15 दिन में बंद हों रिहायशी इलाकों में चल रही फैक्ट्रियां

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दिल्ली में सार्वजनिक भूमि पर अनधिकृत निर्माण और अतिक्रमण एक बहुत ही गंभीर समस्या है. यह कहते हुए शीर्ष अदालत ने एसटीएफ से शीघ्रता से इन सभी के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कहा. एसटीएफ ने सुप्रीम कोर्ट को यह भी बताया कि उसे करीब 7 हजार शिकायतें मिली हैं, जिनमें से 3 हजार शिकायतों पर कार्रवाई की गई है.

(विस्‍तृत जानकारी की प्रतीक्षा है)