close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली: सार्वजनिक परिवहन को मजबूत करने के लिए 4000 नई बसों को सड़कों पर उतारा जाएगा

डीटीसी के बेड़े में जनवरी से मई के बीच 1000 लो फ्लोर बसें और जुड़ जाएंगी. जुलाई से दिसंबर के बीच दिल्ली की सड़कों पर क्लस्टर की 1000 स्टैंडर्ड फ्लोर बसें आ जाएंगी.

दिल्ली: सार्वजनिक परिवहन को मजबूत करने के लिए 4000 नई बसों को सड़कों पर उतारा जाएगा
(प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में 11 जुलाई, गुरुवार को हुई कैबिनेट बैठक में दिल्ली में सार्वजनिक परिवहन और प्रदूषण से जुड़े दो अहम फैसले लिए गए. मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार दिल्ली में सार्वजनिक परिवहन को मजबूत करने के लिए 4000 नई बसों को दिल्ली की सड़कों उतारा जाएगा.

डीटीसी के बेड़े में जनवरी से मई के बीच 1000 लो फ्लोर बसें और जुड़ जाएंगी. जुलाई से दिसंबर के बीच दिल्ली की सड़कों पर क्लस्टर की 1000 स्टैंडर्ड फ्लोर बसें आ जाएंगी. इसके अलावा क्लस्टर की 1000 लो-फ्लोर बसें भी दिसंबर से अप्रैल के बीच दिल्ली की सड़कों पर दौड़ने लगेंगी. साथ ही, 1000 इलेक्ट्रिक बसें भी जनवरी से अप्रैल तक आ जाएंगी.
 
कैबिनेट के फैसलों के बारे में जानकारी देने के लिए दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने दिल्ली सचिवालय में एक प्रेस कांफ्रेंस की.

'सरकार ने दो अहम फैसले लिए हैं' 
मनीष सिसोदिया ने कहा, दिल्ली में सार्वजनिक परिवहन और पर्यावरण की स्थिति में सुधार के लिए सरकार ने दो अहम फैसले लिए हैं. दिल्ली की सड़कों पर मई-जून तक 9500 बसें मौजूद रहेंगी. अभी दिल्ली में डीटीसी और क्लस्टर को मिलाकर 5500 बसें हैं. मई-जून तक इस बेड़े में 4000 बसों का और इजाफा हो जाएगा.

इसके तहत दिल्ली ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (डीटीसी) के बेड़े में जनवरी से मई के बीच 1000 लो फ्लोर बसें और जुड़ जाएंगी. जनवरी से आनी शुरू हो जाएंगी और मई तक सारी बसें आ जाएंगी. कैबिनेट ने इसके लिए गुरुवार को मंजूरी दे दी है.
 
इसी तरह, इन 1000 के अलावा, पिछले 1-2 साल में 3000 बसों को खरीदने की तैयारी की थी. दिल्ली सरकार क्लस्टर के लिए 1000 स्टैंडर्ड फ्लोर बसें खरीदने की प्रकिया पर काम कर रही थी. अब इससे संबंधित सारी प्रक्रिया पूरी हो गई है. ये बसें जुलाई से सड़कों पर आनी शुरू हो जाएंगी और ये सारी 1000 बसें दिसंबर तक दिल्ली की सड़कों पर दौड़नी शुरू हो जाएंगी. 
 
इसके अलावा, क्लस्टर में 1000 लो फ्लोर बसों को खरीदने का फैसला लिया गया था. गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में 650 बसों के टेंडर मंजूरी दे दी गई है. इन बसों के लिए 15 दिन में वर्क एवार्ड हो जाएगा. ये बसें दिसंबर से अप्रैल के बीच आ जाएंगी. दिसंबर में 165 बसें आएंगी और अप्रैल तक सभी 650 बसें दिल्ली की सड़कों पर होंगी. इसके अलावा बाकी 350 बसों का टेंडर 19 जुलाई को खुल जाएगा. इस तरह इन सभी 1000 बसों को दिल्ली की सड़कों पर लाने का काम अप्रैल तक पूरा हो जाएगा.
 
इसके अलावा दिल्ली सरकार 1000 इलेक्ट्रिक बसों को लाने पर भी काम कर रही है. इन 1000 इलेक्ट्रिक बसों का टेंडर 2 अगस्त को खुल जाएगा. जनवरी से अप्रैल तक ये सारी बसें दिल्ली की सड़कों पर आ जाएंगी. इस तरह दिल्ली के लोगों के लिए मई-जून तक 9500 बसें मौजूद रहेंगी.
 
राजघाट कोल प्लांट को बंद करके बनाया जाएगा सोलर पार्क 
दिल्ली में पर्यावरण में सुधार की दिशा में कैबिनेट ने गुरुवार को एक अहम फैसला लिया है. इसके बारे में बताते हुए श्री मनीष सिसोदिया ने कहा, राजघाट कोल प्लांट को अब आधिकारिक तौर पर बंद कर दिया जाएगा. वैसे, प्रदूषण के कारण 2015 से ही यहां प्रोडक्शन बंद कर दिया गया था. अब कैबिनेट ने इसे आधिकारिक तौर पर बंद करने का फैसला ले लिया है.
 
राजघाट कोल प्लांट की जगह 45 एकड़ में एक सोलर पार्क बनाया जाएगा. दिल्ली सरकार, सोलर एनर्जी की दिशा में पहले से ही काफी काम कर रही है. राजघाट कोल प्लांट की जगह बनने वाले सोलर पार्क में करीब 5000 किलोवाट सोलर एनर्जी का प्रोडक्शन होगा.