close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ट्रैफिक के बाद अब पॉलीथीन रखने पर कटा 'सबसे बड़ा चालान'

बाजारों में धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रही प्लास्टिक की पन्नियों को नुकसानदायक मानते हुए नैशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (एनजीटी) ने 50 माइक्रोन से पतली प्लास्टिक के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया था. ऐसे प्लास्टिक की बिक्री, स्टोरेज और दुकानों में ऐसे प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी.

ट्रैफिक के बाद अब पॉलीथीन रखने पर कटा 'सबसे बड़ा चालान'
(प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्लीः राजधानी दिल्ली में एक दुकानदार को पॉलीथीन रखने पर 2 लाख रुपये का चालान कट गया. बाहरी दिल्ली के नांगलोई रोहतक रोड पर की एक दुकान से 50 माइक्रोन से कम 18 किलोग्राम प्लास्टिक जब्त की है. बता दें कि 100 किलोग्राम तक प्रतिबंधित प्लास्टिक रखने पर 2 लाख रुपये का चालान किया जाता है और इससे ज्यादा किलोग्राम की प्लास्टिक रखने पर 5 लाख रुपये के चलान का प्रावधान है.

बता दें कि बाजारों में धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रही प्लास्टिक की पन्नियों को नुकसानदायक मानते हुए नैशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (एनजीटी) ने 50 माइक्रोन से पतली प्लास्टिक के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया था. ऐसे प्लास्टिक की बिक्री, स्टोरेज और दुकानों में ऐसे प्लास्टिक के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी.

PM मोदी का है सपना
प्रधानमंत्री मोदी के सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त भारत बनाने के सपने में अब देश का व्यापारी वर्ग भी बढ़चढ़कर सहयोग देने के लिए आगे आया है. रोजमर्रा की चीजों की शॉपिंग में इस्तेमाल होने वाली 50 ग्राम माइक्रॉन से कम वजन वाली प्लास्टिक थैलियां अब दुकानदार नहीं देगें. 1 सितंबर से देश भर में सिंगल यूज प्लास्टिक को लेकर दुकानदारों और ग्राहकों में जगारुकता फैलाई जाएगी और 2 अक्टूबर से पूरी तरह से देशभर की व्यापारी सिंगल यूज प्लास्टिक का बहिष्कार करेंगे.

कपड़े की थैलियों का दिया ऑर्डर
दिल्ली के दुकानदार प्रधानमंत्री के सिंगल यूज प्लास्टिक बंद किए जाने के आवाह्न को गंभीरता से ले रहे हैं. कुछ दुकानदार प्लास्टिक का बचा हुआ स्टॉक खत्म करने में लगे हैं और प्लास्टिक की जगह कपड़े की थैलियों के ऑर्डर भी दे चुके हैं. दुकानदार ही नहीं ग्राहक भी प्लास्टिक को लेकर दिल्ली में जगारूक नजर आ रहे है.

सिंगल यूज प्लास्टिक का होता है सबसे ज्यादा इस्तेमाल
आपको बता दें कि प्लास्टिक का 43 फीसदी इस्तेमैल पैकेजिंग के लिए किया जाता है. इसके बाद 21 फीसदी इंफ्रास्ट्रक्चर, ऑटो सेक्टर में 16 फीसदी और खेती में 2 फीसदी उपयोग होता है. 43 फीसदी प्लास्टिक जिसे पैकेजिंग के लिए उपोयग में लाया जाता है. उसमें अधिकतर सिंगल यूज प्लास्टिक ही होता है. वहीं, देश में हर व्यक्ति लगभग 11 किलो प्लास्टिक का यूज करता है. जबकि दुनिया में इसका औसत 28 किलो और अमेरिका में 109 किलो है.