Delhi Violence : जाफराबाद और मौजपुर चौक को पुलिस ने करवाया खाली, हटाए गए प्रदर्शकारी

उत्तर पूर्वी दिल्ली में एक महीने (24 फरवरी से 24 मार्च) के लिए धारा 144 लागू कर दी गई है 

Delhi Violence : जाफराबाद और मौजपुर चौक को पुलिस ने करवाया खाली, हटाए गए प्रदर्शकारी

नई दिल्ली: उत्तर-पूर्वी दिल्ली (North East Delhi) जिले के हालात अब भी तनावपूर्ण बने हुए हैं. उत्तर-पूर्वी दिल्ली में मंगलवार (25 फरवरी) सुबह भी हिंसा व पत्थरबाजी (Delhi Violence) की कई वारदातें हुईं. पुलिस ने जानकारी दी है कि दिल्ली में सोमवार से अब तक हुई हिंसा में एक पुलिसकर्मी समेत 10 लोगों की मौत हो गई है. जबकि 180 से ज्यादा लोग घायल हैं. उत्तर पूर्वी दिल्ली में एक महीने (24 फरवरी से 24 मार्च) के लिए धारा 144 लागू कर दी गई है.

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी सतीश गोलचा ने बताया, 'प्रदर्शकारियों ने जाफराबाद मेट्रो स्टेशन और मौजपुर चौक खाली कर दिया है. अब 66 फुटा रोड भी पूरी तरह से साफ है. वहां से भी सभी प्रदर्शकारी हटा दिए गए हैं.'

नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर अजीत डोभाल रात के 12 बजे सीलमपुर पहुंच गए. यहां नॉर्थ ईस्ट डीसीपी ऑफिस में डोभाल बैठक ले रहे हैं. नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में हिंसा के बाद के हालात की समीक्षा के लिए बैठक की.

रात को पुलिस की बड़ी कार्रवाई
सीएए के खिलाफ जाफराबाद-मौजपुर में मेट्रो स्टेशन के नीचे प्रदर्शन कर रही महिलाओं को पुलिस ने हटा दिया है. रास्ता क्लियर करवा दिया गया है. मंगलवार को ITBP और SSB और दिल्ली पुलिस की टीम ने सड़क को खाली करवा लिया है. इसी धरने के कुछ दिन बाद CAA के समर्थन में धरना मौजपुर में शुरू हुआ था जिसके बाद दंगे हुए थे.

शाहीन बाग की बढ़ाई गई सुरक्षा
दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर साउथ और ज्वाइंट सीपी शाहीन बाग पहुंचे. बाकि जगहों पर भड़की हिंसा को देखते हुए शाहीन बाग की सुरक्षा बढ़ाई गई है. अफसरों ने सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया. वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कल के अपने त्रिवेंद्रम दौरे को रद्द कर दिया है.

कुल 70 जगह आगजनी हुई
आज की अपडेट के मुताबिक आग लगने की कुल 70 कॉल रिसीव हुई, यह आंकड़ा सुबह 8 बजे से रात 8 बजे का है. इसके अलावा पत्थरबाजी में कुल 5 वाहनों को नुकसान पहुंचा है. 

पुलिस महकमें में बदलाव
एसएन श्रीवास्तव को दिल्ली का नया स्पेशल सीपी लॉ एंड ऑर्डर नियुक्त किया गया. एसएन श्रीवास्तव फिलहाल सीआरपीएफ में एडीजी के पद पर तैनात हैं. एसएन श्रीवास्तव सीआरपीएफ में तैनाती से पहले दिल्ली पुलिस में कई महत्वपूर्ण पदों पर यह तैनात हो चुके हैं. ताजा अपडेट के मुताबिक पुलिस ने जफराबाद मैट्रो स्टेशन के नीचे बैठे प्रदर्शनकारियों से सड़क खाली करवा ली है.

गोली मारने के आदेश
इसके अलावा दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को दंगाग्रस्त इलाकों में फ्लैग मार्च किया लेकिन इसके बाद भी उपद्रवी नहीं माने और उन्होंने कई इलाकों में आगजनी की और पथराव किया. दिल्ली पुलिस ने रात होते हाते इलाकों में गश्त तेज कर दी और लोगों को घरों रहने की अपील की. 

दिल्ली पुलिस के एसीपी ने यमुना विहार के नूर ए इलाही चौक पर लाउडस्पीकर से ऐलान किया, 'आप लोग अनावश्यक रूप से सड़कों पर ना आए. दंगाइयों को देखते ही गोली मारने का आदेश है. आप लोग घरों में रहें. सड़क पर आकर पथराव ना करें और मजमा इकट्ठा ना करें' 

कई इलाकों में धारा 144 लागू
मौजपुर, बाबरपुर, जाफराबाद, गोकुलपुरी, बृजपुरी आदि इलाकों में पुलिस व रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की तैनाती की गई है. हालांकि इन क्षेत्रों के कई अंदरूनी इलाकों में आपसी भिड़ंत व एक दूसरे पर पत्थरबाजी की वारदातें अभी भी हो रही हैं. मंगलवार (25 फरवरी) सुबह मौजपुर के समीप ब्रह्मपुरी इलाके में उपद्रवी भीड़ ने एक बार फिर पथराव किया. छोटे-छोटे गुटों में बंटे उपद्रवियों के ये समूह पुलिस व कुछ अन्य लोगों पर पथराव करते दिखे. हिंसा की छिटपुट घटनाएं जाफराबाद, मौजपुर और बाबरपुर के अंदरूनी हिस्सों में भी सामने आई हैं. 

पुलिस के पास पूरी फोर्स मौजूद
दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने कहा, 'कुछ समाचार एजेंसियों ने खबर चलाई कि दिल्ली पुलिस ने कहा कि उसे गृह मंत्रालय से पर्याप्त बल नहीं मिला है, यह जानकारी गलत है. दिल्ली पुलिस इससे पूरी तरह इनकार करती है. गृह मंत्रालय लगातार हमारा समर्थन कर रहा है और हमारे पास पर्याप्त बल हैं. उपद्रवियों को बख्शा नहीं जाएगा, उनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी. पर्याप्त पुलिस बल, सीएपीएफ और वरिष्ठ अधिकारी उत्तर पूर्व जिले में तैनात हैं. जिले के कुछ इलाकों में धारा 144 लागू.'

चांद बाग इलाके में उपद्रवियों ने मंगलवार शाम को एक बेकरी में आग लगा दी. 

दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने मंगलवार शाम को बताया था, 'हिंसाग्रस्त इलाकों में धारा 144 लगा दी गई है. हम लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करते हैं. लोग अफवाहों पर ध्यान न दें. मैं नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के लोगों से अपील करता हूं कि वह कानून अपने हाथों में ना लें. हम स्थिति पर नजर रखने के लिए ड्रोन की भी मदद ले रहे हैं. इस हिंसा में अब तक 56 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. जिनमें से एक हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल शहीद हो गए हैं. जबकि डीसीपी शाहदरा को सिर में गंभीर चोट आई है. अभी तक इस हिंसा में 130 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं.'

दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा ने बीजेपी नेता कपिल मिश्रा द्वारा दिए गए भाषण पर कहा, 'इसकी जांच की जा रही है. हमारी पहली प्राथमिकता है कि हम वहां स्थिति को नियंत्रण में करें जो कि हम करने में लगे हीं. हम सभी एफआईआर की जांच कर रहे हैं, अगर मुख्य षडयंत्रकर्ता का पता चलता है तो एक्शन लिया जाएगा.'

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी सतीश गोलचा ने खजूरी खास में कहा, 'हम उपद्रवियों को हिरासत में ले रहे हैं और उन पर कानून कार्रवाई की जाएगी. हम लोगों से अपील करते हैं कि वह शांति बनाए रखने में सहयोग करें. जब तक स्थिति नियंत्रण में नहीं आ जाती हम यहीं तैनात रहेंगे. जरूरत पड़ी तो और फोर्स तैनात की जाएगी.'

ताजा हिंसा भजनपुरा इलाके में हुई है. यहां बड़ी संख्या में प्रदर्शकारी इकट्ठा हो गए. 

यह भी पढ़ें- Delhi Violence: गृह मंत्रालय की बैठक के बाद केजरीवाल ने कहा- हर कोई शांति चाहता है

गुरु तेग बहादुर अस्पताल के मेडिकल सुप्रीटेंडेंट सुनील कुमार ने कहा, 'सोमवार को 100 घायलों का लाया गया था. आज 35 लोगों को लाया गया था. कल 5 की मौत हुई थी. आज 4 की मौत हो चुकी है.' खजूरी खास में रैपिड एक्शन फोर्स ने फ्लैग मार्च किया.

दिल्ली के एलजी अनिल बैजल और दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने सोमवार को हिंसा में शहीद हुए दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल को श्रद्धांजलि अर्पित की. दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने कहा, 'हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल ने देश के लिए बलिदान दिया है. हमें उनपर गर्व हैं. हम उनके परिवार के साथ खड़े हैं.'

उपद्रवियों ने पत्रकार को भी नहीं छोड़ा, सीने में मारी गोली
हिंसा के दौरान जम्मू कश्मीर 24x7 चैनल के पत्रकार को भी गोली लगी है. पत्रकार का नाम आकाश है और फिलहाल उन्हें जीटीबी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

घायलों से मिले सीएम केजरीवाल
जीटीबी अस्पताल पहुंचे सीएम अरविंद केजरीवाल का कहना है कि अस्पताल में पूरे इन्तज़ाम है. इस हिंसा से किसी का भला नहीं हो रहा है. दोनों धर्म के लोगों का नुकसान हो रहा है. होम मिनिस्टर साहब से बात हुई है, उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस को जितनी फ़ोर्स की जरूरत है दी जाएगी.

यह भी पढ़ें- दिल्ली पुलिस की आधारहीन आलोचना ना करें, पुलिस का सहयोग करें : अमित शाह

पुलिसकर्मी रतन लाल को भी लगी थी गोली
सोमवार को हुई हिंसा में शहीद हुए हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल के परिवार के मुताबिक डॉक्टर ने बताया है कि रतन लाल के सीने में गोली निकली है. जो बाएं तरफ से शरीर मे घुसी थी.

दूध लेने गया था राहुल, गोली लगने से हुई मौत
कल करावल नगर के शिव विहार में राहुल नाम के 26 साल के लड़के की गोली लगने से मौत हुई है. उसके पिता की बाईट है और फ़ोटो.  पिता का कहना है कि वो दूध लाने गया था उसी दौरान  प्रदर्शन कारियो ने उसे गीली मार दी. एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल भटकते रहे  फिलहाल पोस्टमार्टम  में देरी के लिए काफी परेशान है. आरोप है कि कल शाम से इलाके में तनाव को लेकर पुलिस को फ़ोन कर रहे थे लेकिन फ़ोर्स नही भेजा गया

गृह मंत्री अमित शाह ने बुलाई बैठक
वहीं तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने आज दोपहर 12 बजे अपने आवास पर एक बैठक बुलाई. बैठक में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपराज्यपाल अनिल बैजल और विभिन्न पार्टियों के लोग शामिल हुए. बैठक के बाद केजरीवाल ने कहा, बहुत सकारात्मक मीटिंग रही है, हरकोई शांति चाहता है,  सभी पार्टी मिलकर शांति बहाल करने के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे.' 

ये वीडियो भी देखें: