close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हरियाणाः डॉ.अंबेडकर की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया गया, दलित समाज में गुस्सा

पुलिस ने बताया कि बहुजन समाज पार्टी और डॉ. बीआर अंबेडकर कल्याण संघर्ष समिति के सदस्यों ने शुक्रवार को पुलिस को इस घटना की सूचना दी.

हरियाणाः डॉ.अंबेडकर की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया गया, दलित समाज में गुस्सा

जींदः हरियाणा के जींद जिले के रानी तालाब इलाके में कुछ अज्ञात लोगों ने डॉ. भीमराव अंबेडकर की एक प्रतिमा को कथित तौर पर नुकसान पहुंचाया है. पुलिस ने इसकी जानकारी दी.पुलिस ने बताया कि बहुजन समाज पार्टी और डॉ. बीआर अंबेडकर कल्याण संघर्ष समिति के सदस्यों ने शुक्रवार को पुलिस को इस घटना की सूचना दी.

उन्होंने आरोप लगाया कि शुक्रवार सुबह उन्होंने देखा कि प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर दिया गया है. बीएसपी और समिति के सदस्यों ने इलाके में विरोध प्रदर्शन किया जिसके बाद सुरक्षा कड़ी कर दी गई. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को मामले की जांच कर दोषियों को गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया है.

गाजियाबाद कोर्ट से हटाई गई अंबेडकर की प्रतिमा
आपको बता दें कि इससे पहले इस साल 3 जनवरी को यूपी के गाजियाबाद में जिला प्रशासन ने अदालत परिसर से संविधान निर्माता बाबासाहब भीमराव अंबेडकर की एक प्रतिमा हटा दी थी. इसको लेकर गाजियाबाद बार एसोसिएशन ने रोष जाहिर किया था.

यह भी पढ़ेंः  जानें कौन हैं प्रकाश अंबेडकर?

यहां एसोसिएशन ने नववर्ष की पूर्व संध्या पर अदालत परिसर के भीतर कांस्य की प्रतिमा लगाई थी. बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश त्यागी काकड़ा ने आरोप लगाया कि जिला प्रशासन ने जबरन प्रतिमा हटा दी है. जिले के अनेक वकील इस कदम के खिलाफ हड़ताल पर बैठ गए थे. 

बाबा साहब की 10 बातें जो किसी भी समाज में ला सकती हैं बदलाव
संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर (Bhim Rao Ambedkar) महान दलित चिंतक माने जाते है. आज भी उनके विचार प्रासंगिक हैं. उन्होंने उस दौर में भारतीय समाज और संस्कृति का अध्यन कर ऐसी बातें कही थीं जो बिल्कुल सटीक हैं. आइए भारत के इस महान शख्स की द्वारा कही उन 10 बातों को याद करें जो किसी के भी जीवन में प्रेरणा दे सकते हैं.

1. शिक्षित बनो! संगठित रहो! संघर्ष करो.
2. मैं ऐसे धर्म को मानता हूं जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारा सिखाता है.
3. जीवन लंबा होने के बजाय महान होना चाहिए.
4. एक महान व्यक्ति एक प्रतिष्ठित व्यक्ति से अलग है, क्योंकि वह समाज का सेवक बनने के लिए तैयार रहता है.
5. दिमाग का विकास मानव अस्तित्व का परम लक्ष्य होना चाहिए.
6. हम सबसे पहले और अंत में भारतीय हैं.
7. हिंदू धर्म में विवेक, कारण और स्वतंत्र सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं है.
8. मनुष्य नश्वर है. ऐसे विचार होते हैं. एक विचार को प्रचार-प्रसार की ज़रूरत है जैसे एक पौधे में पानी की ज़रूरत होती है. अन्यथा दोनों मुरझा जायेंगे और मर जायेंगे.
9. मैं एक समुदाय की प्रगति का माप महिलाओं द्वारा हासिल प्रगति की डिग्री द्वारा करता हूं.
10. इतिहास बताता है कि जहां नैतिकता और अर्थशास्त्र में संघर्ष होता है वहां जीत हमेशा अर्थशास्त्र की होती है. निहित स्वार्थों को स्वेच्छा से कभी नहीं छोड़ा गया है जब तक कि पर्याप्त बल लगा कर मजबूर न किया गया हो.

(इनपुट भाषा से)