close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चुनाव आयोग की केजरीवाल को नसीहत, कहा-पंजाब के नतीजों पर मंथन करें, ईवीएम पर दोष मढ़ना ठीक नहीं

चुनाव आयोग ने आज कहा कि आम आदमी पार्टी पंजाब चुनावों में डाले गये वोटों की पुष्टि पेपर ट्रेल (रिपीट ट्रेल) के आंकड़े से कराने के लिये राज्य उच्च न्यायालय में चुनावी याचिका दायर कर सकती है. 

चुनाव आयोग की केजरीवाल को नसीहत, कहा-पंजाब के नतीजों पर मंथन करें, ईवीएम पर दोष मढ़ना ठीक नहीं
पंजाब चुनाव के रिजल्ट की घोषणा के बाद केजरीवाल ने आशंका जतायी थी कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की वजह से उनकी पार्टी की हार हुई. (फाइल फोटो)

नयी दिल्ली: चुनाव आयोग ने आज कहा कि आम आदमी पार्टी पंजाब चुनावों में डाले गये वोटों की पुष्टि पेपर ट्रेल (रिपीट ट्रेल) के आंकड़े से कराने के लिये राज्य उच्च न्यायालय में चुनावी याचिका दायर कर सकती है. 

कड़े शब्दों वाले अपने खत में चुनाव आयोग ने यह भी कहा कि यह आप के लिये है कि वह ‘‘यह आत्म विश्लेषण करे कि उनकी पार्टी क्यों उनकी उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सकी और यह अनुचित है कि आप चुनाव में अपनी पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन को ईवीएम से कथित छेड़छाड़ की आशंका से जोड़कर देखें.’’ 

हाई कोर्ट में दायर करें याचिका

चुनाव आयोग ने कहा कि नतीजों की घोषणा के बाद डाले गये वोट के आंकड़ों की पुष्टि के लिये एकमात्र विकल्प यह है कि संबंधित उच्च न्यायालय में चुनावी याचिका दायर करें.

आप ने आरोप लगाया था कि पंजाब में निर्वाचन अधिकारियों ने उसकी नतीजों के आंकड़ों को पेपर ट्रेल ऑडिट से मिलाने की मांग को खारिज कर दिया था.

'गड़बड़ी वाले' ईवीएम की जांच की जाए, केजरीवाल का मुख्य चुनाव आयुक्त से आग्रह

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने शनिवार (1 अप्रैल) को चुनाव आयोग से ‘गड़बड़ी वाले’ इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के मामलों की जांच करने और उसके सॉफ्टवेयर में छेड़छाड़ कर उसे ‘भाजपा के पक्ष में किये जाने’ की आशंका की जांच का आग्रह किया था. केजरीवाल ने मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी से मुलाकात की और देश में एक बार फिर से मत पत्रों के जरिये चुनाव कराये जाने की मांग की.

ईवीएम के साथ छेड़छाड़ नहीं होने का चुनाव आयोग का दावा गलत

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव आयोग का यह दावा पूरी तरह ‘गलत’ है कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है. गौरतलब है कि मीडिया के एक वर्ग में चल रही खबर में दावा किया गया है कि मध्य प्रदेश के भिंड में वोटर वेरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) के डेमो के दौरान कोई भी बटन दबाने पर भाजपा की पर्ची निकल रही थी. भिंड में अगले सप्ताह विधानसभा उपचुनाव होना है.

ईवीएम से छेड़छाड़ देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था पर सवाल है

केजरीवाल ने कहा कि अगर ईवीएम के साथ छेड़छाड़ हो सकती है तो इससे देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था को लेकर गंभीर सवाल पैदा होता है. बैठक के बाद आप के राष्ट्रीय संयोजक ने कहा, ‘हम बार-बार दोहराते रहे हैं कि बड़े पैमाने पर ईवीएम के साथ छेड़छाड़ हो रही है. मध्य प्रदेश में कल की घटना ने सबको चकित कर दिया है और चुनावों की निष्पक्षता को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं.’ पंजाब विधानसभा चुनावों के परिणामों की घोषणा के बाद केजरीवाल ने आशंका जतायी थी कि ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की वजह से उनकी पार्टी की हार हुई.