हरियाणा: लिमिट से ज्यादा प्याज रखने पर होगी FIR, मुनाफाखोरों पर छापेमारी जारी

पूरे हरियाणा में आज खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले नियंत्रक विभाग की तरफ से प्याज के स्टॉक की जांच को लेकर छापेमारी की जा रही है.

हरियाणा: लिमिट से ज्यादा प्याज रखने पर होगी FIR, मुनाफाखोरों पर छापेमारी जारी
फाइल फोटो

हिसार: हरियाणा में 'भाव' खा रहे प्याज के दाम को लेकर प्रदेश सरकार एक्शन मोड में आ गई है. पूरे हरियाणा में आज खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले नियंत्रक विभाग की तरफ से प्याज के स्टॉक की जांच को लेकर छापेमारी की जा रही है. हिसार में भी 7 टीमें गठित की गई हैं, जो पूरे जिले में दुकानों पर पहुंच कर प्याज के स्टॉक की जांच कर रिपोर्ट तैयार कर रही हैं. तय सीमा से अधिक प्याज का भंडारण करने वालों के खिलाफ विभाग एफआईआर जैसी कार्रवाई अमल में लाएगा. दरअसल, सब्जी के तड़के की जान माने जाना वाला प्याज इन दिनों आमजन को अपने दाम के चलते खूब रूला रहा है, हालात यह है कि बाजार में सेब सस्ता मिल रहा है, लेकिन प्याज सेब से भी महंगा मिल रहा है. हिसार में तो प्याज के दाम 70 रुपये किलोग्राम तक पहुंच गए हैं.

हरियाणा को नहीं मिल रहा प्याज
हरियाणा में प्याज की सप्लाई महाराष्ट्र के नासिक, मध्यप्रदेश और राजस्थान से आती है. सब्जी मंडी में सब्जी विक्रेता कृष्ण कुमार, राक्खा राम का कहना है कि रेट में उछाल पीछे से प्याज की सप्लाई ना आने के चलते और बारिश में फसल खराब होने के कारण हो रहा है. बढ़े दामों के कारण ग्राहक भी प्याज की खरीददारी कम करने लगे हैं. उन्होंने बताया कि हरियाणा में प्याज की सप्लाई महाराष्ट के नासिक से और राजस्थान के सीकर एरिया से आती है. इसके अलावा मध्यप्रदेश से भी यहां प्याज आता है.लेकिन पिछले काफी दिनों से सप्लाई काफी कम आ रही है, जितना प्याज पहले आता था उसका 20 प्रतिश्त भी सप्लाई के तौर पर हिसार नहीं आ पा रहा है.

लाइव टीवी देखें

मुनाफे के चक्कर में करते हैं स्टॉक
सब्जी विक्रेताओं का तर्क सप्लाई कम आने का है. लेकिन कई व्यापारी मुनाफा कमाने के चक्कर में इसकी शॉर्टेज का फायदा उठा लेते हैं. प्रदेश सरकार को भी इस बात की सूचना मिल रही थी कि कई व्यापारी प्याज की कमीं की आड़ में अब पुराने स्टॉक किए गए प्याज को बाहर निकाल रहे हैं. इसकी सूचना मिलते ही प्रदेश सरकार एक्शन मोड में आ गई है. पूरे हरियाणा में आज खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले नियंत्रक विभाग की तरफ से प्याज के स्टॉक की जांच को लेकर छापेमारी की जा रही है. 

लिमिट से ज्यादा रखने वालों पर होगी एफआईआर
प्याज के स्टॉक की सीमा की बात करें तो निर्देशों के मु​ताबिक थोक व्यापारी 500 क्विंटल और खुदरा व्यापारी 100​ क्विंटल का स्टॉक रख सकता है. विभाग के अधिकारी सुभाष सिहाग का कहना है कि इससे ज्यादा मात्रा में स्टॉक रखने वालों के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत एफआईआर करवाने की विभाग ने तैयारी कर ली है.
 
प्याज के बढ़ते दामों ने पूरे प्रदेश के उपभोक्ताओं में परेशानी बढ़ा रखी है. अभी तक ​हुई हिसार की जांच में कोई बड़ा स्टॉक विभाग के अधिकारियों के हाथ नहीं लगा है. लेकिन देखना यही होगा कि क्या प्याज का भारी मात्रा में स्टॉक करने का मामला सामने आता है या नहीं. वहीं रिकॉर्ड को विभाग चंडीगढ़ में मुख्यालय को भेजेगा.