close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में सिर्फ दिवाली और गुरु पर्व पर ही पटाखे चलाने की इजाजत

चीफ जस्टिस रवि शंकर झा और जस्टिस राजीव शर्मा की खंडपीठ ने यह आदेश वर्ष 2017 में बढ़ते ध्वनि और वायु प्रदुषण के चलते लिए गए संज्ञान पर सुनवाई करते हुए दिए हैं. गत वर्ष हाईकोर्ट ने शाम साढ़े 6 से रात साढ़े 9 बजे के बीच तीन घंटों के लिए पटाखे चलाये जाने की इजाजत दी थी.

पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में सिर्फ दिवाली और गुरु पर्व पर ही पटाखे चलाने की इजाजत

चंडीगढ़: पिछले साल की तरह इस बार फिर दिवाली (Diwali 2019) और गुरुपर्व (Guru Parv 2019) पर शाम रात 8 से लेकर 10 बजे के बीच इन दो घंटों में पटाखे चलाए जाने की पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने इजाजत दी है. हाईकोर्ट ने मामले में वर्ष 2017 में लिए गए संज्ञान पर सुनवाई करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट गत वर्ष रात से 8 बजे 10 बजे के बीच ही पटाखे और आतिशबाजी चलाने का समय निर्धारित कर चूका है, लिहाजा इस वर्ष भी सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के तहत दिवाली (Diwali 2019) वाले दिन पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में इन्ही दो घंटों के बीच ही पटाखे चलाने की इजाजत होगी.

चीफ जस्टिस रवि शंकर झा और जस्टिस राजीव शर्मा की खंडपीठ ने यह आदेश वर्ष 2017 में बढ़ते ध्वनि और वायु प्रदुषण के चलते लिए गए संज्ञान पर सुनवाई करते हुए दिए हैं. गत वर्ष हाईकोर्ट ने शाम साढ़े 6 से रात साढ़े 9
बजे के बीच तीन घंटों के लिए पटाखे चलाये जाने की इजाजत दी थी. हाई कोर्ट के इस आदेश के बाद सुप्रीम कोर्ट ने पटाखे चलाने के लिए दिवाली (Diwali 2019) की रात 8 से 10 बजे के बीच ही पटाखे चलाने के आदेश जारी कर दिए थे. मंगलवार को हाईकोर्ट ने कहा कि गत साल सुप्रीम कोर्ट ने जो समय तय किया है उसी समय के बीच ही इस वर्ष दिवाल की रात पटाखे चलाने की इजाजत होगी. दिवाली (Diwali 2019) से पहले और उसके बाद में पटाखे चलाने पर पूरी तरह से पाबंदी रहेगी. यानि कि हरियाणा विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी के उम्मीवार जीते, लेकिन वह आतिशबाज़ी नहीं कर सकेंगे.

ये भी देखें-:

हाईकोर्ट के इन आदेशों को पूरी तरह से लागु करने की जिम्मेदारी पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ के संबंधित डीसी, एसएसपी/एसपी की तय कर दी है. यह अधिकारी तय करेंगे कि हाईकोर्ट के इन आदेशों का उलंघन न हो पाए. गत वर्ष
भी हाईकोर्ट ने आदेश दिए थे कि कोई भी व्यक्ति दिवाली (Diwali 2019) से पहले और बाद में पटाखे न चलाए और सिर्फ दिवाली (Diwali 2019) और गुरुपर्व (Guru Parv 2019) की रात 8 से 10 बजे के बीच ही पटाखे चलाए जाएं. यह सुनिश्चित करना स्थानीय प्रशासन का काम होगा.

पटाखे बेचने के लिए स्थाई लाइसेंस दिए जाने पर लगाई गई रोक को हटाते हुए पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ प्रशासन, पंजाब व हरियाणा सरकार को इस संबंध में आवेदनों पर विचार करने के निर्देश दिए हैं. चीफ जस्टिस रवि शंकर झा और जस्टिस राजीव शर्मा की खंडपीठ ने फैसले में कहा कि कानून के मुताबिक स्थाई लाइसेंस जारी किए जा सकते हैं. 

खंडपीठ ने साथ ही स्पष्ट किया कि अस्थाई लाइसेंस जारी करने की प्रक्रिया को जारी रखा जा सकता है. जिन लोगों के पास लाइसेंस हैं वे पटाखे बेच सकते हैं. मामले पर सुनवाई के दौरान पंजाब सरकार की तरफ से कहा गया कि वे स्थाई लाइसेंस जारी नहीं कर पा रहे. हाईकोर्ट के इस संबंध में आदेश हैं जिनके चलते स्थाई लाइसेंस नहीं दिए जा रहे. खंडपीठ ने इस पर स्पष्ट करते हुए कहा कि परमानेंट लाइसेंस के आवेदन पर विचार किया जा सकते हैं.