AAP और नौकरशाही में फिर ठनी, खाद्य आयुक्त पर 3 लाख राशन कार्ड रद्द करने का आरोप

मुख्यमंत्री ने खाद्य आयुक्त के फैसले पर कड़ी नाराजगी जताई है और उनकी सरकार ने संबंधित अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई को लेकर चेताया है.

AAP और नौकरशाही में फिर ठनी, खाद्य आयुक्त पर 3 लाख राशन कार्ड रद्द करने का आरोप
फाइल फोटो

नई दिल्ली : दिल्ली की राजनीति में एक बार फिर सरकार और नौकरशाही में ठन गई है. दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने आरोप लगाया है कि खाद्य आयुक्त मोहनजीत सिंह ने बिना उचित निरीक्षण के 2.9 लाख से ज्यादा राशन कार्ड रद्द करने का फैसला किया है. इसके बाद आप सरकार और नौकरशाही के बीच खींचतान का एक और चरण शुरू हो सकता है.

सरकार के आरोप का खंडन करते हुए सिंह ने कहा कि ‘कानून की वाजिब प्रक्रिया’ के बाद 2.48 लाख ‘अयोग्य’ राशन कार्ड धारकों को हटाया गया है. 

राशन कार्ड रद्द करने का मुद्दा कुछ वक्त से राजनीतिक नेतृत्व और नौकरशाही के बीच विवाद का मुद्दा रहा है.

अप्रैल में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री इमरान हुसैन ने आरोप लगाया था कि खाद्य आयुक्त बिना उचित सत्यापन के तीन लाख राशन कार्ड रद्द करने पर तुले हुए हैं. मई में, इमरान हुसैन ने सिंह को खत लिखकर उन्हें निर्देश दिया था कि उन लोगों की राशन आपूर्ति बहाल की जाए जिन्हें जनवरी से मार्च तक राशन नहीं मिला है. विभाग ने उन लोगों को राशन देना बंद कर दिया था जिन्होंने तब तक खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारियों से खुद का सत्यापन नहीं कराया था.

खाद्य आयुक्त मोहनजीत सिंह ने कहा कि जन वितरण प्रणाली को स्वच्छ किया गया है और करोड़ों रुपये के राशन को चोरी से बचाया गया है. सरकार ने कहा कि हुसैन की कड़ी आपत्ति के बावजूद सिंह ने यह फैसला किया है.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने खाद्य आयुक्त के फैसले पर कड़ी नाराजगी जताई है और उनकी सरकार ने संबंधित अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई को लेकर चेताया है. सरकार ने एक बयान में कहा कि ये अधिकारी निर्वाचित सरकार को रिपोर्ट नहीं करते हैं. ये दिल्ली के लोगों के हितों के खिलाफ काम कर रहे हैं जो एक गंभीर मामला है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.