close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गजेंद्र सिंह शेखावत ने की गंगा आमंत्रण कार्यक्रम की शुरुआत, 10 अक्टूबर से होगी शुरुआत

गंगा आमंत्रण कार्यक्रम में वैज्ञानिक, आर्मी, नेवी एयरफोर्स और एनडीआरएफ के लोग शामिल होंगे. एयरफोर्स के विंग कमांडर परमवीर सिंह के नेतृत्व में राष्ट्रीय अभियान शुरू होगा. 

गजेंद्र सिंह शेखावत ने की गंगा आमंत्रण कार्यक्रम की शुरुआत, 10 अक्टूबर से होगी शुरुआत
बाल गंगा मेला, पेंटिंग और स्लोगन कंपटीशन होंगे और कॉलेज-यूनिवर्सिटी के साथ इंटरेक्शन होगा.

नई दिल्ली: नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत गजेंद्र सिंह शेखावत ने सोमवार को नेशनल मीडिया सेंटर में गंगा आमंत्रण कार्यक्रम की शुरूआत की. इस कार्यक्रम के तहत रिवर राफ्टिंग एक्सपेडिशन कार्यक्रम के तहत गंगा किनारे बसे लोगों को गंगा की सफाई से जोड़ा जाएगा. 10 अक्टूबर से शुरू होकर 12 नवंबर तक चलने वाले कार्यक्रम में छोटे बड़े 32 शहरों में जन जागरण किया जाएगा.

गंगा आमंत्रण कार्यक्रम में वैज्ञानिक, आर्मी, नेवी एयरफोर्स और एनडीआरएफ के लोग शामिल होंगे. एयरफोर्स के विंग कमांडर परमवीर सिंह के नेतृत्व में राष्ट्रीय अभियान शुरू होगा. नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत गंगा टास्क फोर्स में भी एक्स सर्विसमैन जुड़े हैं. इस प्रोग्राम के तहत गंगा आमंत्रण 2019 के नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा अभियान में देवप्रयाग, ऋषिकेश, हरिद्वार, कानपुर और प्रयागराज जैसे शहर कवर किए जाएंगे.

देवप्रयाग में 10 अक्टूबर को जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह कार्यक्रम की शुरूआत करेंग. जिसके बाद बनारस, पटना, कोलकाता और फ्रेजरगंज में कई कार्यक्रम होंगे. इस अभियान का समापन 12 नवंबर को फ्रेजरगंज में होगा.

32 शहरों में होंगे कई कार्यक्रम
बाल गंगा मेला, पेंटिंग और स्लोगन कंपटीशन होंगे और कॉलेज-यूनिवर्सिटी के साथ इंटरेक्शन होगा. जिसमें एनएमसीजी के अधिकारी मौजूद रहेंगे. एडवेंचरस स्पोर्टिंग इवेंट के साथ में लार्जेस्ट सोशल कैंपेन भी होगा. जिसमें वाइल्डलाइफ इंस्टीट्यूट आफ इंडिया सीएसआईआर शामिल है.

2021 के कुंभ से पहले यह सुनिश्चित करेंगे
केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिहं शेखावत ने कहा कि, आने वाली पीढ़ी तक गंगा के संस्कार प्रभाहित हो सके इसके लिए लोगों का इस मिशन के साथ जुड़ना जरूरी है. शेखावत ने कहा कि अभियान के तहत नदी के पानी के नमूने लेने के साथ वहां की इकोलॉजिकल डायवर्सिटी का भी अध्ययन किया जाएगा. जलशक्ति मंत्री का कहना है कि अगले 2 साल में गंगा की सफाई में बहुत बड़ा परिवर्तन देखने को मिलेगा. 2021 के कुंभ से पहले यह सुनिश्चित करेंगे कि गंगोत्री से हरिद्वार तक गंगा में अनट्रीटेड सीवरेज या अर्बन वेस्ट फैक्ट्रियों का वेस्ट ना जाए.