प्रदूषण को लेकर बैठक में शामिल नहीं होने पर गंभीर की सफाई, 'मैं कॉन्ट्रैक्ट से बंधा था'

गौतम गंभीर ने जलेबी खाने वाली अपनी तस्वीर को लेकर निशाना साधने वालों को भी जवाब दिया.

प्रदूषण को लेकर बैठक में शामिल नहीं होने पर गंभीर की सफाई, 'मैं कॉन्ट्रैक्ट से बंधा था'
फोटो- ANI

नई दिल्ली: पूर्व क्रिकेटर और पूर्वी दिल्ली से सांसद गौतम गंभीर प्रदूषण पर हुई बैठक में नहीं आने पर आज सफाई दी. गौतम गंभीर ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह जानते हैं कि यह बैठक जरूरी थी लेकिन वह कमेंट्री कॉन्ट्रैक्ट से बंधे हुए थे. बता दें कि दिल्ली में प्रदूषण को लेकर संसद में शहरी विकास मामले की स्टैंडिंग कमेटी की बैठक में गौतम गंभीर शामिल नहीं हो सके थे. इस दौरान गौतम गंभीर को इंदौर में क्रिकेट मैच के दौरान कमेंट्री करता देखा गया. सोशल मीडिया पर उनकी कुछ तस्वीरें भी वायरल हुई थी. यहां तक की दिल्ली के आईटीओ पर तो उनके लापता होने के पोस्टर तक लगा दिए गए थे.

आज गौतम गंभीर ने मीडिया को बताया, 'मैं जानता हूं कि यह बैठक काफी महत्वपूर्ण थी, लेकिन मैं कॉन्ट्रैक्ट से बंधा हुआ था. मैंने यह अनुबंध इस साल जनवरी में साइन किया था जबकि मैं राजनीति में अप्रैल में आया. अनुबंध की बाध्यता के चलते मुझे कमेंट्री के लिए जाना था. 11 नवंबर को मुझे ईमेल मिला और उसी दिन, मैंने उन्हें बैठक में शामिल नहीं होने के कारण की जानकारी दी'

गौतम गंभीर ने जलेबी खाने वाली अपनी तस्वीर को लेकर निशाना साधने वालों को भी जवाब दिया.

देखें वीडियो  

क्या है विवाद?
बता दें दरअसल, दिल्‍ली-एनसीआर में प्रदूषण के खतरनाक हालात में पहुंचने पर शुक्रवार को संसदीय समिति की बैठक रखी गई थी. शहरी विकास मंत्रालय से संबंधित संसदीय समिति की इस मीटिंग में कई सांसद और तीनों नगर निगमों (MCD) के मुखिया ही नहीं पहुंचे.  इसी बीच, भारत-बांग्लादेश टेस्ट क्रिकेट मैच में कमेंट्री करने पहुंचे गौतम गंभीर की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई, जिसमें वह अपने साथियों वीवीएस लक्ष्मण और जतिन सप्रू के साथ इंदौरी पोहे-जलेबी चखते हुए नजर आ रहे थे. इसको लेकर आम आदमी पार्टी ने गंभीर पर तंज कसते हुए ट्विटर पर लिखा, ''क्या कमेंट्री बॉक्स तक ही सीमित है प्रदूषण को लेकर गंभीरता?''

हालांकि गौतम गंभीर ने इस पूरे मामले पर अपनी सफाई भी दी. गंभीर ने ट्वीटर पर अपना बयान जारी किया. गंभीर ने लिखा, ''मेरा काम खुद बोलेगा! अगर मुझे गाली देने से दिल्ली का प्रदूषण कम होता है तो AAP मुझे जी भरकर गाली दीजिए.'

कौन - कौन पहुंचा इस बैठक 
बता दें कि बैठक में सिर्फ चार सांसद जगदंबिका पाल, हसनैर मसूदी, सी आर पाटिल और संजय सिंह ही शामिल हुए. जबकि पर्यावरण मंत्रालय की तरफ से डिप्टी सेक्रेटरी लेवल के अधिकारी ही पहुंचे. और तो और डीडीए (DDA) की तरफ से भी जूनियर अधिकारी ही आए. बड़े अधिकारियों के बैठक में न पहुंचने से इस बैठक को टालना पड़ा.

ये वीडियो भी देखें: