close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली से गिरफ्तार घोड़ा गैंग..भारी मात्रा में ज्वैलरी बरामद

भाग रहे दोनों बदमाशों को मौके से पकड़ लिया और जब बदमाशों के पास रखे बैग को चैक किया तो आरपीएफ के होश उड़ गए. 

दिल्ली से गिरफ्तार घोड़ा गैंग..भारी मात्रा में ज्वैलरी बरामद
आरोपियों ने पुलिस को पूछताछ में ये भी बताया की ये घोड़ा गैंग के लोग बिहार से हैं

नई दिल्लीः रेलवे सुरक्षा बल ने घोड़ा गैंग के दो ऐसे शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है जो हिमाचल में डकैती की वारदात को अंजाम देकर दिल्ली पहुंचे थे. इनके पास से आरपीएफ ने पांच लाख रुपए का सामान बरामद हुआ है. आरपीएफ के सीनियर डीएससी शशि कुमार के मुताबिक शुक्रवार दोपहर को दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर इंस्पेकर अनिल कुमार के नेतृत्व में सिविल में तैनात टीम ने दो शख्स को संदिग्ध हालात में देखा और जैसे ही इनको रुकने का इशारा किया, तभी दोनों स्टेशन पर भागने लगे. भाग रहे दोनों बदमाशों को मौके से पकड़ लिया और जब बदमाशों के पास रखे बैग को चैक किया तो आरपीएफ के होश उड़ गए.

इस बैग में भारी मात्रा में चांदी की जवैलरी थी. जिसका वजह तक़रीबन ढाई किलो है. वहीं दूसरे बैग में चार लैपटॉप मिले और विदेशी घड़ी भी बरामद हुई.

दोनों आरोपियों की पहचान रामेश्वर गिरि और संजय शाह के तौर पर हुई है. दोनों आरोपियों ने आरपीएफ को बताया की हिमाचल के मंडी इलाके में इनके 6 और साथियों ने मिलकर ज्वैलरी और लैपटॉप की दुकान में चोरी की वारदात को अंजाम दिया. इन आठ लोगों के गैंग ने 13 किलो चांदी और 13 लैपटॉप चोरी किये. फिर उसके बाद अपने हिस्से का सामान लेकर फरार हो गए. वहीं हिमाचल पुलिस घोड़ा गैंग के चार लोगों को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है लेकिन दो आरोपियों को आरपीएफ ने रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया है. दोनों की गिरफ्तारी के बाद आरपीएफ ने हिमाचल की मंडी पुलिस को सूचना दी आरपीएफ ने दोनों को चोरी के सामान के साथ मंडी पुलिस के हवाले कर दिया. पुलिस गैंग के दो लोगों को भी तलाश कर रही है जो फरार है. 

आरोपियों ने पुलिस को पूछताछ में ये भी बताया की ये घोड़ा गैंग के लोग बिहार से हैं और हिमाचल, पंजाब, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश और दिल्ली में भी चोरी कर चुके हैं और चोरी करने के बाद बिहार के रास्ते नेपाल पहुंच जाया करते थे. ताकि ये लोग पकड़ में न आ पाएं और फिर चोरी किये हुए सामान को बेचने के बाद अपना अगला निशाना तलाशते थे.