गुरुग्राम: खेड़की दौला टोल प्लाजा पर आधे घंटे में ही फास्ट टैग का ट्रायल फेल, लगा लंबा जाम

15 जनवरी से कुल दो लेन छोड़कर सभी लेन को फास्ट टैग में बदल दिया जायेगा. 

गुरुग्राम: खेड़की दौला टोल प्लाजा पर आधे घंटे में ही फास्ट टैग का ट्रायल फेल, लगा लंबा जाम
गुरुग्राम के खेड़की दौला प्लाजा पर जहां कुल 25 लेन है.(फाइल फोटो)

गुरुग्राम,आलोक उपाध्याय​: साइबर सिटी गुरुग्राम के खेड़की दौला टोल प्लाजा पर फास्ट टैग का एक बार फिर ट्रायल शुरू किया गया लेकिन ये ट्रायल आधे घंटे बाद ही बंद करना पड़ा. ट्रायल के दौरान एक किलोमीटर के आसपास लंबा जाम लग गया. जिसे संभालने के लिए टोल कर्मियों के पसीने छूट गए. मानेसर से दिल्ली जाने वाली एक लेन में 11 बजे के आसपास ट्रायल शुरू हुआ जिससे धीरे -धीरे वाहनों में ब्रेक लगना शुरू हो गया. थोड़ी देर बाद जाम इतना लंबा लग गया की इस ट्रायल को महज 11 बजकर 30 मिनट में ही बंद करना पड़ गया. 

गुरुग्राम के खेड़की दौला टोल पर 80 हजार के आस-पास गाड़ियों का आवागमन रहता है. अगर फास्ट टैग की बात करे तो 70 परसेंट से ज्यादा लोगों ने फास्ट टैग ले लिया है लेकिन फास्ट टैग की मेंटेनेंस न होने के कारण जाम की समस्या उत्पन्न हो रही है. टोलकर्मियों की माने तो आज भी वाहन चालक फास्ट टैग ले रहे हैं लेकिन मेंटेनेंस न होने की वजह से ऐसे हालात पैदा हो रहे हैं.

15 जनवरी से कुल दो लेन छोड़कर सभी लेन को फास्ट टैग में बदल दिया जायेगा. गुरुग्राम के खेड़की दौला प्लाजा पर जहां कुल 25 लेन है जिसमे से 19 लेन पिछले कई दिनों से फास्ट टैग के लिए रखा गया है. दो एमरजेंसी के लिए है और 4 अभी कैश के लिए रखा गया है. ऐसे में 15 जनवरी का दिन कैश वाहन चालकों के दिन काफी अहम होगा.

यह भी देखें:-

जानिए आखिर क्या है फास्ट टैग या आरएफआईडी
आरएफआईडी(Radio-frequency identification device) दरअसल एक छोटी चिप या स्टीकर होता है जिसे आप अपने वाहन के आगे वाले शीशे पर चिपका सकते हैं. इसी स्टीकर या चिप को प्रचलित भाषा में फास्ट टैग कहते हैं. आपका फास्ट टैग लगा वाहन जब नेशनल हाईवे या किसी टोल प्लाजा से गुजरेगा तो वहां टोल पर लगे हाई डेफिनिशन कैमरा आपके आरएफआईडी या फास्ट टैग को स्कैन कर लेंगे और आपका टोल भुगतान इलेक्ट्रॉनिक तरीके से हो जाएगा. यदि वह गाड़ी 24 घंटे के दौरान उस टोल को वापस क्रॉस करने के लिए आती है तो उससे कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा, बल्कि उसके अकाउंट से अप-डाउन वाली पेमेंट कट होगी.

कैसे बनेगा आरएफआईडी
आरएफआईडी किसी भी बैंक में बनवाया जा सकता है. ऐसे में अनेक टोल पर बैंक अधिकारी-कर्मचारी बैठा दिए गए हैं, ताकि वाहन चालक वहीं से अपनी इस प्रक्रिया को पूरा कर सकें. इसके लिए वाहन चालक को अपने वाहन की आरसी, आधार कार्ड, पैन कार्ड आदि की फोटोस्टेट कॉपी की आवश्यकता होती है.