हरियाणा: तारीख के दिन कोर्ट नहीं पहुंचे डिप्टी सीएम दुष्यंत, जानिए क्या है मामला

 हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने आज हिसार की अदालत में तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ दायर एक मानहानि के मुकदमे के संबंध में पेश होना था, लेकिन वो तारीख पर नहीं आ पाए. 

हरियाणा: तारीख के दिन कोर्ट नहीं पहुंचे डिप्टी सीएम दुष्यंत, जानिए क्या है मामला
.(फाइल फोटो)

हिसार: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने आज हिसार की अदालत में तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ दायर एक मानहानि के मुकदमे के संबंध में पेश होना था, लेकिन वो तारीख पर नहीं आ पाए. हालांकि दुष्यंत के वकील पीके संधीर का कहना है कि दुष्यंत चौटाला काम में व्यस्तता के चलते अदालत में पेश नहीं हो पाए. उन्होंने बताया कि मामले की अगली तारीख 7 फरवरी की है.

क्या है मामला
मामला बीजेपी नेता अनिल विज और जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला से जुड़ा है. दरअसल दोनों पार्टियों के गठबंधन से ही अब हरियाणा में सरकार बनी हुई है लेकिन इस सरकार के गठन से पहले यानी की ठीक 2018 में दोनों ही पार्टियां एक दूसरे को जमकर कोसती थी. उस वक्त हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री के रूप में अनिल विज कार्यभार देख रहे थे, वहीं दुष्यंत चौटाला हिसार से सांसद थे. चौटाला 2018 की 18 मार्च को चण्डीगढ़ में प्रेसवार्ता करते है, आरोप लगाते हुए कहते है कि स्वास्थ्य विभाग में करोड़ो रुपये की दवा एवं उपकरण की खरीद में घोटाला हुआ है. दुष्यंत चौटाला  कुछ सबूत लेकर प्रेसवार्ता में पहुंचे थे.

इसके बाद प्रदेश के तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज एक्शन में आते है. 3 अप्रैल 2018 को उन्होंने दुष्यंत चौटाला को लेकर एक पत्रकार वार्ता में बयान दिया. बयान में दुष्यंत पर अनिल विज ने नशेड़ी कहते हुए किसी नशा मुक्ति केंद्र से अपना इलाज करवाने की सलाह दे डाली. बस इसी बात पर मामला बिगड़ गया, दुष्यंत चौटाला इस मामले को लेकर अदालत में आ पहुंचे और अनिल विज पर मानहानि के संबंध में करवाई करवाते हुए माफी मांगने के संबंध में नोटिस जारी करवा दिया. बस तभी से इस मामले की बीच-बीच में सुनवाई का दौर चल रहा है.

राजनीतिक गलियारे में चर्चा
लेकिन अब ये मामला क्यों सुर्खियों में है वो भी आपको बता देते है. दरअसल, अनिल विज के खिलाफ दुष्यंत द्वारा हिसार की अदालत में दायर मानहानि की आपराधिक शिकायत की सुनवाई के दौरान डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला शुक्रवार को अदालत में पेश नहीं हुए. चौटाला ने 7 जुलाई 2018 को हिसार की अदालत में केस  दायर किया था.

मामला चर्चा में इसलिए है कि दुष्यत पिछली लगभग हर तारीख पर आए, लेकिन आज अदालत में क्यों नहीं आये. राजनीतिक गलियारों में तो चर्चा है कि कहीं बीजेपी जेजेपी के गठबंधन ने पुराने गीले शिकवे भी दूर कर दिए है? हालांकि हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि दुष्यंत के वकील एडवोकेट पीके संधीर का कहना है कि दुष्यंत चौटाला काम में व्यस्तता के चलते तारीख पर नहीं आ पाए.

वकील दुष्यंत के अदालत में ना आने के कारण उनकी व्यस्तता बता रहे हैं, लेकिन वास्तविकता आखिर क्या है ये तो दुष्यंत ही जानते है.  देखना यही होगा कि मामले की अगली सुनवाई  7 फरवरी को क्या दुष्यंत चौटाला अदालत में पहुंचते हैं या नहीं.