close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'जब भी सांसद-विधायक आएं तो सीट से खड़े हो जाएं', हरियाणा सरकार का ब्यूरोक्रेट्स को आदेश

हरियाणा की सत्तासीन खट्टर सरकार ने इसके लिए एक सर्कुलर जारी किया है.

'जब भी सांसद-विधायक आएं तो सीट से खड़े हो जाएं', हरियाणा सरकार का ब्यूरोक्रेट्स को आदेश
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर. (फाइल फोटो)

बहादुरगढ़ : हरियाणा सरकार ने नौकरशाहों को जनप्रतिनिधि (सांसद व विधायकों) के सम्मान में खड़े होने का आदेश दिया है. हरियाणा की सत्तासीन खट्टर सरकार ने इसके लिए एक सर्कुलर जारी किया है. सरकार की ओर से जारी किए गए सर्कुलर में ब्यूरोक्रेट्स को आदेश दिया गया है कि जनप्रतिनिधियों के किसी सार्वजनिक कार्यक्रम में आते समय और वापस जाने पर अधिकारियों को शिष्टाचार के साथ खड़े रहना आवश्यक है.

आदेश ना मानने वालों को दी जाएगी सजा
सरकार की ओर से जारी किए गए सर्कुलर में कहा गया है कि विधायकों और सांसदों के आने पर खड़ा नहीं होगा उसे सजा दी जा सकती है. माना जा रहा है कि हरियाणा सरकार ने यह फैसला लोगों की शिकायत आने के बाद लिया है. सरकार का कहना है कि जनप्रतिनिधि, जनता द्वारा चुने जाते हैं और जब वह जनता के बीच रैली करने के लिए जाते हैं और नौकरशाह उनके प्रति सम्मान नहीं दिखाते हैं तो उनकी छवि धूमिल होने का खतरा रहता है. 

सर्कुलर जारी होने के बाद अब तक हरियाणा के किसी भी मंत्री या अधिकारी का बयान इस मामले में सामने नहीं आया है.

2011 में जारी गाइडलाइंस का दिया हवाला
2011 में प्रदेश में जारी गई गाइडलाइंस का हवाला देते हुए राज्य सरकार ने कहा है कि कई सांसदों ने उनसे शिकायत की है. सर्कुलर में कहा गया है कि सांसद और विधायकों ने शिकायत दर्ज कराई है कि अधिकारी उनका सहयोग नहीं कर रहे हैं. 

कई बार हो चुका है विवाद
उल्लेखनीय है कि हरियाणा की सत्तासीन मनोहर लाल खट्टर सरकार अब तक कई ऐसे फरमान जारी कर चुकी है, जिसको लेकर विवाद हुआ है. कुछ दिनों पहले खट्टर सरकार ने जारी कर कहा था कि प्रदेश के सभी खिलाड़ियों को विज्ञापनों और प्रोफेशनल स्पोर्ट के जरिए कमाई होती है उसका तैंतीस फीसदी हरियाणा स्पोर्ट्स काउंसिल में जमा करवाना होगा. सरकार के इस फैसले को लेकर विवाद हुआ था.