दुष्‍यंत नहीं, बल्कि हरियाणा में जेजेपी की तरफ से इन्‍हें बनाया जा सकता है उप मुख्‍यमंत्री...

जेजेपी से कहा गया है कि अगले साल जनवरी में होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान वह बीजेपी को जाट वोटों का फायदा कराने में मदद करेंगे. माना जाता है कि दिल्ली में करीब 28 लाख जाट वोटर हैं.

दुष्‍यंत नहीं, बल्कि हरियाणा में जेजेपी की तरफ से इन्‍हें बनाया जा सकता है उप मुख्‍यमंत्री...

नई दिल्‍ली/चंडीगढ़ : हरियाणा (Haryana) में 'मुद्दों पर सहमति' के बाद जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) द्वारा बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने की बात पक्‍की हो जाने के बाद अब सवाल यह है कि जेजेपी की ओर से किसी उप मुख्‍यमंत्री पद के ल‍िए आगे किया जाएगा तो इस सवाल का जवाब सामने आ गया है. सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार, बाढड़ा सीट से जेजेपी विधायक और दुष्‍यंत चौटाला की मां नैना चौटाला को उप मुख्‍यमंत्री बनाया जा सकता है. दरअसल, हरियाणा की सियासत में नैना सिंह चौटाला नया नाम नहीं है. वह हरियाणा के दिग्‍गज सियासी परिवार 'चौटाला फैमिली' से ताल्‍लुक रखती हैं. वह इंडियन नेशनल लोकदल (INLD) के पूर्व नेता और जजपा संस्थापक अजय सिंह चौटाला की पत्‍नी हैं.

बता दें कि जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) शुक्रवार रात गृहमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) से मिलने उनके आवास पर पहुंचे थे, जिसके बाद इस गठबंधन का ऐलान किया गया था. गठबंधन की घोषणा करते हुए गृहमंत्री और बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने कहा था कि हरियाणा में बीजेपी और जेजेपी मिलकर सरकार बनाएगी. उन्होंने कहा कि सरकार में बीजेपी का मुख्यमंत्री और जेजेपी का उप मुख्यमंत्री होगा.

अमित शाह ने कहा था, 'आज बीजेपी के सभी वरिष्ठ नेताओं और जेजेपी के नेताओं के बीच बैठक हुई. हरियाणा की जनता ने जो जनादेश दिया है, उसको मद्देनजर रखते हुए, उस जनादेश को स्वीकार करते हुए, दोनों पार्टियों के नेताओं ने यह तय किया है कि हरियाणा के अंदर बीजेपी और जेजेपी मिलकर सरकार बनाएंगे. गठबंधन सरकर में मुख्यमंत्री बीजेपी का होगा, जबकि डिप्टी सीएम जेजेपी का होगा. कई निर्दलीय विधायकों ने इस गठबंधन को समर्थन दिया है.' इस गठबंधन के ऐलान के साथ ही स्पष्ट हो चुका है कि मनोहर लाल खट्टर हरियाणा में एक बार फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे और दुष्यंत चौटाला उपमुख्यमंत्री बन सकते हैं.

बीजेपी और जेजेपी का यह गठबंधन न्‍यूनतम साझा कार्यक्रम के तहत हुआ है. जेजेपी की ओर से चुनाव प्रचार में किए गए कई वादों को बीजेपी पूरा करने को तैयार हो गई है. साथ ही जेजेपी से कहा गया है कि अगले साल जनवरी में होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान वह बीजेपी को जाट वोटों का फायदा कराने में मदद करेंगे. माना जाता है कि दिल्ली में करीब 28 लाख जाट वोटर हैं.

ये भी पढ़ें: 65 के मनोहर लाल और 31 साल के दुष्यंत चौटाला की किसने कराई दोस्ती? पढ़ें पर्दे के पीछे की कहानी