हरियाणा में सरकार बनने के बाद भी नहीं हुआ कैबिनेट का विस्तार, जानिए क्यों हो रही देरी

हरियाणा में जेजेपी और बीजेपी के गठबंधन से सरकार तो बन गई है, लेकिन अभी तक कैबिनेट का विस्तार नहीं हो पाया है. 

हरियाणा में सरकार बनने के बाद भी नहीं हुआ कैबिनेट का विस्तार, जानिए क्यों हो रही देरी

हिसार: हरियाणा में जेजेपी और बीजेपी के गठबंधन से सरकार तो बन गई है, लेकिन अभी तक कैबिनेट का विस्तार नहीं हो पाया है. ऐसे में कैबिनेट के विस्तार को लेकर तरह-तरह की चर्चाओं का बाजार भी गर्म है. लेकिन हरियाणा के डिप्टी सीएम और जेजेपी नेता दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सबसे अहम राम मंदिर पर आने वाले फैसले के बाद प्रदेश में कानून एवं सामाजिक व्यवस्था बनाए रखना है इसलिए जानबूझकर कैबिनेट विस्तार में देरी की गई है. आगमी 2 से 3 दिनों में विभागों से जुड़े और कैबिनेट विस्तार को लेकर दोनों पार्टिया फैसला ले लेंगी.

कैबिनेट में देरी का तर्क 
मसलन दुष्यंत ने अयोध्या मामले को लेकर आएं फैंसले को कैबिनेट में देरी का तर्क दिया है. दुष्यंत चौटाला डिप्टी सीएम बनने के बाद पहली बार हिसार में कार्यकर्ताओं से मिलने पहुंचे थे. इससे पहले दुष्यंत बता दें कि हिसार से ही सांसद रह चुके है. जिस सीट से दुष्यंत चौटाला जीते है, वो सीट जींद जिला की उचाना है. लेकिन उचाना लोकसभा के नजरिए से हिसार लोकसभा में ही आती है. 

आज जब दुष्यंत हिसार के पीडब्ल्यूडी रेस्ट हॉउस पहुंचे, तो कार्यकर्ताओं ने उनकी गाड़ी को घेर लिया. मसलन रेस्ट हाउस में अंदर जाने की बजाय, दुष्यंत कार्यकर्ताओं के बीच पार्क में ही मौजूद रहे और उनकी बातें समस्याएं सुनते रहे. इसके बाद दुष्यंत रेस्ट हाउस के हाल में आ गए और वहां भी कार्यकर्ताओं से मुखातिब हुए. दुष्यंत ने गुरुपर्व और 550 वें प्रकाशोत्सव की शुभकामनाएँ देते हुए आग्रह किया कि गुरु नानक जी के पर्यावरण और सामाजिक एकता आदि के विचारों को हमें इस प्रकाशोत्सव पर अपने जीवन में शामिल करना चाहिए.

किसानों को नहीं आने दी जाएगी दिक्कत
धान की खरीद में आ रही समस्याओं को लेकर डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इस समस्या को विधानसभा के पटल पर उठाया गया है. यदि किसानों की कोई शिकायत इस सम्बन्ध में है, तो सरकार के संज्ञान में लाएं उस पर आवश्यक कार्यवाही की जाएगी.

दुष्यंत ने कहा की पिछले साल 55 लाख मीट्रिक टन जीरी की आवक रही, वहीं इसबार 61 लाख मीट्रिक टन से अधिक खरीद अभीतक की जा चुकी है. उन्होंने कहा की अभी लगभग 12 प्रतिशत जीरी अभी उनके संज्ञान में है जो मंडियों में आएगी. उन्होंने कहा की इसके बावजूद भी सरकार ने फैसला लिया है की धान की फसल का एक एक दाना ख़रीदा जाएगा.

पराली को लेकर भी दुष्यंत ने दिया तर्क
प्रदेश में पराली जलाए जाने को लेकर दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सरकार सौ रूपए प्रति क्विंटल किसानों से पराली खरीदेगी और इसके लिए पॉलिसी भी बनकर तैयार है. वहीं पराली को सरकार वैस्ट टू एनर्जी प्लांट में यूटिलाइज करने का काम करेगी. दुष्यंत चौटाला ने पराली की बिक्री में किसानों को लगने वाले ट्रांसपोर्टेशन चार्ज को लेकर कहा की इसके लिए भी सरकार पालिसी बना रही है.

36 घोषणाएं मिलती है, हमारी
दुष्यंत ने कहा कि विधानसभा चुनाव मैनिफेस्टो में वृद्धावस्था पेंशन 5100 किए जाने के वादे को पूरा किए जाने को लेकर उन्होंने कहा की भारतीय जनता पार्टी के मैनिफेस्टो में भी पेंशन बढ़ाने का वादा किया गया था. बीजेपी और जेजेपी की 36 ऐसी घोषणाए है जो कॉमन है और इसके लिए कमेटी बनाकर प्राथमिक बैठक की जा चुकी है जल्द ही प्रस्ताव पारित कर सभी घोषणाओं को लागू किया जाएगा.