close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हरियाणा में इस पार्टी ने जीती 'पहली सीट', बीजेपी के मंत्री को बड़े मत अंतर से हराया

Haryana Election Results 2019 : चुनाव आयोग के अनुसार, इस तरह राज्‍य की पहली सीट जेजेपी ने जीती. साल 2014 के विधानसभा चुनाव में कृष्‍ण कुमार बेदी ने इस सीट पर महज 562 मतों से जीत दर्ज की थी.

हरियाणा में इस पार्टी ने जीती 'पहली सीट', बीजेपी के मंत्री को बड़े मत अंतर से हराया
शाहबाद (एससी) सीट से जेजेपी उम्‍मीदवार रामकरण (बाएं) ने अपने प्रतिद्वंदी बीजेपी प्रत्‍याशी और राज्यमंत्री कृष्ण कुमार बेदी (दाएं) को बड़े अंतर से हराया. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली/चंडीगढ़ : हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019 (Haryana Election Results 2019) के अंतिम रुझानों में (दोपहर 1.30 बजे तक) जहां त्रिशंकु विधानसभा के हालात बने हुए हैं, वहीं इस पूरे चुनाव में जननायक जनता पार्टी (Jannayak Janata Party) किंगमेकर बनकर उभरी. इनेलो से टूटकर नई गठित इस पार्टी ने इन चुनावों में बेहतर प्रदर्शन किया. पार्टी के बेहतर प्रदर्शन का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि राज्‍य विधानसभा चुनावी नतीजों में पहली सीट जेजेपी ने ही जीती.

Haryana Assembly Election Results 2019 LIVE: जेजेपी के खाते में आई पहली सीट, बीजेपी के मंत्री को हराया

जेजेपी ने शाहबाद (एससी) सीट पर यह जीत दर्ज की. चुनाव आयोग के अनुसार, शाहबाद (एससी) सीट से जेजेपी उम्‍मीदवार रामकरण ने अपने प्रतिद्वंदी बीजेपी प्रत्‍याशी और राज्यमंत्री कृष्ण कुमार बेदी को बड़े अंतर से हराया. यह अंतर 37127 मतों का रहा. चुनाव आयोग के अनुसार, इस तरह राज्‍य की पहली सीट जेजेपी ने जीती. साल 2014 के विधानसभा चुनाव में कृष्‍ण कुमार बेदी ने इस सीट पर महज 562 मतों से जीत दर्ज की थी.

LIVE TV...

52 साल के कृष्ण कुमार बेदी साल 1994 में थानेसर नगर परिषद से पार्षद बने थे. साल 2005 में भाजपा की टिकट पर उन्‍होंने रादौर विधानसभा से चुनाव लड़ा था, लेकिन वे हार गए. इसके बाद भी साल 2009 में उन्‍होंने शाहाबाद से भाजपा की टिकट पर दूसरी बार चुनाव लड़ा, लेकिन यहां भी उन्‍हें हार मिली. इसके बाद साल 2014 के चुनावों में उन्‍होंने इनेलो के प्रत्याशी को हरा दिया था. उन्‍हें खट्टर सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री का पद मिला था. 

बेदी लंबे समय से भारतीय जनता पार्टी से जुड़े हैं. इससे पहले कॉलेज शिक्षा के समय में आरएसएस से जुड़े रहे, लिहाजा, संघ के बड़े पदाधिकारियों के साथ उनके अच्छे संबंध रहे.