close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

करनाल: बोरवेल में गिरी 5 साल की मासूम, लंबे ऑपरेशन के बाद NDRF ने निकाला बाहर, हुई मौत

एनडीआरएफ की टीम ने जब बच्ची को बाहर निकाला तो बच्चे की हलचल दिखाई नहीं दे रही थी. बच्ची को कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज ले जाया गया था.

करनाल: बोरवेल में गिरी 5 साल की मासूम, लंबे ऑपरेशन के बाद NDRF ने निकाला बाहर, हुई मौत

कमलजीत सिंह विर्क, करनाल: हरियाणा के करनाल (Karnal) जिले में घरौंडा के गांव हरिसिंह पूरा में रविवार को बोरवेल में गिरी 5 साल बच्ची की सोमवार को मौत हो गई. सोमवार को एनडीआरएफ की टीम ने बाहर निकाल लिया था. हालांकि बच्ची की हालत के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं दी गई थी. एनडीआरएफ की टीम ने जब बच्ची को बाहर निकाला तो बच्चे की हलचल दिखाई नहीं दे रही थी, बच्ची को कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में लेकर जाया गया है. जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

बता दें कि रविवार रात 9 बजे के करीब 5 साल की मासूम शिवानी 50-60 फिट गहरे बोरवेल में गिर गई थी, बच्ची दोपहर से गायब थी.

सूचना मिलते ही पुलिस प्रशासन के साथ एनडीआरफ (NDRF) की टीम भी बच्ची को बचाने में जुट गई थी. बच्ची तक ऑक्सीजन भेजी गई ताकि वह सांस ले सके. शुरुआत में शिवानी को बचाने की एनडीआरएफ की पहली कोशिश असफल रही ती, पाइप के जरिए नीचे तार का फंदा डालकर शिवानी को निकालने की कोशिश की गई थी, लेकिन सफलता नहीं मिल सकी. सीसीटीवी में शिवानी का पैर दिखाई दे रहा थे इसके बाद एनडीआरएफ की टीम ने दूसरे विकल्पों पर विचार किया.

टीम की थी कोशिश पैर में फंदा फंसाकर बच्ची को बाहर निकाला जा सके, क्योंकि बच्ची का सिर है नीचे की तरफ़ था, जिस कारण उसे निकालने में परेशानी आई. 

बता दें कि पिछले सप्ताह ही तमिलनाडु के तिरुचरापल्‍ली जिले में भी एक ऐसी ही घटना सामने आई थी. यहां तीन दिन तक 2 साल का एक मासूम बोरवेल में फंसा रहा. तीन दिन चले रेस्कयू ऑपरेशन बाद भी सुजीत विल्‍सन (Sujith Wilson) को बचाने की कोशिशें नाकाम रहीं. एनडीआरएफ की टीम बच्‍चे को निकालकर अस्‍पताल पहुंची लेकिन डॉक्‍टरों ने उसको मृत घोषित कर दिया. 

यह भी पढ़ें- 3 दिन से बोरवेल में फंसे मासूम की सलामती के लिए पीएम मोदी ने भी की प्रार्थना

हालांकि उसको बचाने की लगातार तीन दिन तक बहुत कोशिशें की गईं लेकिन बोरवेल में उस तक पहुंचने में तीन दिन लग गए. बीती रात अधिकारियों ने कहा था कि बच्‍चे तक पहुंचने में अभी 12 घंटे और लगेंगे लेकिन उसके बाद बोरवेल के अंदर से दुर्गंध आने लगी थी, जिसके बाद बच्‍चे को मृत घोषित कर दिया गया. बाद में बचाव दल को सुजीत की बॉडी मिली जिसे अस्‍पताल ले जाया गया और पोस्‍टमार्टम किया गया.