close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दिल्ली में ऑटो-टैक्सियों पर लगे QR कोड, सफर हुआ अब और सुरक्षित

इस खास मुहिम के चलते दिल्ली में चल रहे 6000 से ज्यादा टैक्सी और ऑटो में QR कोड लगाए गए. बिना QR कोड वाले ऑटो/टैक्सी सवारी नहीं बैठा सकेंगें.

दिल्ली में ऑटो-टैक्सियों पर लगे QR कोड, सफर हुआ अब और सुरक्षित
दिल्ली में ऑटो और टैक्सी में सफर करना अब और सुरक्षित हो गया है.

नई दिल्ली: दिल्ली में ऑटो और टैक्सी में सफर करना अब और सुरक्षित हो गया है. दिल्ली पुलिस की तरफ से राजधानी में चल रहे ऑटो, टैक्सी में QR कोड इंस्टॉल किए गए हैं. जिसे स्कैन करके सवारी गाड़ी और उसके ड्राइवर की पूरी जानकारी हासिल कर सकती है. और किसी भी तरह का खतरा होने पर दिल्ली पुलिस को फोन या ऐप के जरिए मदद के लिए बुला सकती है.  

इस खास मुहिम के चलते दिल्ली में चल रहे 6000 से ज्यादा टैक्सी और ऑटो में QR कोड लगाए गए.नई दिल्ली रेलवे स्टेशन परिसर में शुक्रवार को दिल्ली पुलिस की तरफ से कार्यक्रम रखा गया जिसमें दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने टैक्सी ड्राइवरों को QR कोड दिए. 

QR कोड स्कैन करते ही उस गाड़ी का नंबर, इ्राइवर का फोटो, नाम, मोबाइल नंबर, ड्राइविंग लाइसेंस नंबर, यहां तक की ड्राइवर का पूरा पता आपके मोबाइल पर आ जाएगा. ये सारी जानकारी दिल्ली पुलिस के डाटाबेस में पहले से ही मौजूद होती है. आप किसी भी टैक्सी में सफर करने से पहले इस कोड को दिल्ली पुलिस की हिम्मत प्लस ऐप पर स्कैन कर सकते हैं. जैसे ही आप से कोड स्कैन करेंगे, पुलिस के पास आपकी यात्रा की जानकारी पहुंच जाएगी. इसके लिए खास तौर पर पुलिस कंट्रोल रूम भी तैयार किया गया है जिसमें पुलिस लगातार आपकी गाड़ी को ट्रैक करती है. और कोई भी शिकायत मिलने पर तुरंत जगह पर पहुच सकती है.

दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने अभियान के बारे में बताते हुए कहा कि हमने ये अभियान पहले एयरपोर्ट से शुरू किया था. अब इसे रेलवे स्टेशन और मेट्रो स्टेशनों तक ले जाया जा रहा है. फिलहाल 6000 ऐसे ड्राइवर हैं जिनको हिम्मत प्लस ऐप से जोड़ा गया है. आगे और भी ड्राइवरो को जोड़ा जाएगा. साथ ही हम कई तरह से कैंपेन चलाते हैं. स्कूल और कॉलेज में ख़ास तौर पर महिलाओं को जागरूक किया जाता है.  

ऑटो ड्राइवर अशरफ़ अली का कहना है कि इस कार्ड को हमारे ऑटो में इसलिए लगाया है जिस से कि सवारी खुद को सुरक्षित महसूस करे. अगर कोई ड्राइवर किसी सवारी के साथ बदतमीजी करता है तो सीधा पुलिस को बताया जा सकता है. इसमें हमारी फोटो भी है. सवारी देख सकती है कि जिस गाड़ी में वो बैठ रहे हैं उसका ड्राइवर वही हो जो फोटो में है. 

दिल्ली पुलिस कि तरफ से कदम खास तौर पर महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उठाया गया है. साथ ही वो लोग जो दूसर शहरों से नौकरी करने, इलाज कराने या पढ़ने पहली बार दिल्ली आ रहे हैं. वो भी दिल्ली में खुद को पूरी तरह सुरक्षित पाएंगे. पुलिस इस अभियान को लेकर कितनी गंभीर है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जिन ऑटो या टैक्सी पर ये QR कोड नहीं लगा होगा, उन्हें नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से सवारी नहीं लेने दी जाएगी. रेलवे स्टेशन की पार्किंग में सिर्फ वही टैक्सी और ऑटो आएंगे जिन पर QR कोड लगा है. जहां इस मुहिम को एयरपोर्ट की 10 टैक्सियों से पायलेट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया गया था वहीं अब ये दिल्ली की 6000 से ज्यादा टैक्सियों से जुड़ चुका है.

ऑटो में बैठने से पहले आप चेक कर लें कि क्या ये ऑटो में QR कोड लगा हुआ है. ये जानना आसान है. जिन भी टैक्सियों में ये QR कोड लगाए गए हैं उनके आगे I am QR code compliant का टैग लगा है.