हिसार: बच्ची के मुंह पर पेटिंग कलर लगाने के मामले में बाल सरंक्षण आयोग का संज्ञान

हिसार के प्राइवेट स्कूल में बच्ची के नंबर कम आने के बाद चौथी कक्षा की बच्ची के चेहरे पर पेंटिंग कलर लगाकर घुमाने के मामले में बाल सरंक्षण विभाग की टीम ने संज्ञान लिया है. 

हिसार: बच्ची के मुंह पर पेटिंग कलर लगाने के मामले में बाल सरंक्षण आयोग का संज्ञान
हिसार के जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी धनपत राय से रिपोर्ट लेती चेयरपर्सन ज्योति बेंदा.

हिसार: हिसार के प्राइवेट स्कूल में बच्ची के नंबर कम आने के बाद चौथी कक्षा की बच्ची के चेहरे पर पेंटिंग कलर लगाकर घुमाने के मामले में बाल सरंक्षण विभाग की टीम ने संज्ञान लिया है. पूरे प्रकरण को लेकर आज बाल सरंक्षण विभाग की चेयरपर्सन ज्योति बेंदा ने पूरे मामले की रिपोर्ट तलब करते हुए समीक्षा की. ज्योति बेंदा ने अधिकारियों को बच्चों की पढ़ाई खराब ना हो, इस बारे विकल्प तलाशने के निर्देश दिए गए हैं. आपको बता दें कि स्कूल का यह प्रकरण सामने आने के बाद से पिछले 15 दिनों से बच्चों की पढ़ाई बाधित है. 

शिक्षा विभाग के अधिकारी ज्योति बेंदा के सामने यह तक नहीं बता पाएं कि जिस स्कूल का यह मामला है उस स्कूल में 5वीं के बाद कितने बच्चे है. दरअसल, जांच में यह भी खुलासा हुआ था कि इस स्कूल में 6 से लेकर 10वीं तक के बच्चों का नाम किसी और स्कूल में चल रहा है, लेकिन पढ़ाया यहां जा रहा है. ऐसे में ज्योति बेंदा ने इस बारे शिक्षा विभाग के अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए लिखने की बात कही. इस बीच सामने आया कि स्कूल में 140 बच्चे है, जिनकी पढ़ाई प्रभावित हो रही है. 

इस दौरान कुछ परिवार भी ज्योति बेंदा के समक्ष हाजिर हुए, उन्होंने स्कूल को दोबारा से खोले जाने की मांग की. हवाला दिया गया कि स्कूल में ही बच्चे पढ़ने के इच्छुक है. हालांकि ज्योति बेंदा ने बंद कमरे में भी बच्चों के परिजनों, बच्चों से और मामले की जांच कर रही पुलिस कर्मी सुमन से भी बातचीत की. ज्योति बेंदा के समक्ष स्कूल संचालक का बेटा भी हाजिर हुआ और उन्होंने भी अपने बयान लिखित में बाल संरक्षण आयोग विभाग के समक्ष दर्ज करवाएं. ज्योति बेंदा ने कहा कि हरियाणा का बाल सरंक्षण विभाग, बच्चों के अधिकारो को लेकर पूरी तरह से सजग है, किसी भी बच्चे के हितों पर कुठाराघात सहन नहीं किया जाएगा.