संसद के बाहर प्रदर्शन कर रही युवती को पुलिस ने हिरासत में लिया, लड़की का आरोप 'मुझे प्रताड़ित किया गया'

कुछ देर बाद दिल्ली पुलिस लड़की को वहां से उठाकर पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने ले गई. 

संसद के बाहर प्रदर्शन कर रही युवती को पुलिस ने हिरासत में लिया, लड़की का आरोप 'मुझे प्रताड़ित किया गया'
अनु दुबे ने हैदराबाद गैंगरेप-हत्या केस के विरोध में संसद के बाहर प्रदर्शन किया (फोटो साभार ANI)

नई दिल्ली: शनिवार सुबह दिल्ली (delhi) में संसद भवन (Parliament House) के पास 22 साल की एक लड़की एक प्लेकार्ड हाथ में लेकर बैठ गई. ये लड़की हैदराबाद (Hyderabad) में महिला वेटनरी डॉक्टर के गैंगरेप और मर्डर की वारदात से परेशान थी.

संसद के बाहर बैठने से पहले अनु दुबे नाम की इस लड़की ने एक वीडियो भी बनाया. वीडियो में लड़की ने कहा कि वो अब और नहीं डरना चाहती और किसी दूसरी लड़की के सपोर्ट में आज संसद के बाहर बैठ रही है. 

 'मैं जलूंगी लेकिन लड़ूंगी'
लड़की ने प्ले कार्ड पर लिखा था कि महिलाएं सुरक्षित क्यों नहीं है.  मीडिया चैनलों से बात करते वक्त लड़की रो रही थी और बार-बार यही पूछ रही थी कि इतने सालों में क्या बदल गया. मां बाप जल्दी घर आने की सलाह देते हैं और पुलिस सिर्फ रसूख वालों के लिए है.  लड़कियां कब तक डरती रहेंगी, आज मैं डरना नहीं चाहती. "जो हैदराबाद में लड़की के साथ हुआ, वही कल मेरे साथ होगा - मैं जलूंगी लेकिन लड़ूंगी. "

कुछ देर बाद दिल्ली पुलिस (police) लड़की को वहां से उठाकर पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने ले गई. पुलिस के बर्ताव पर जब सवाल उठने लगे तो लड़की को छोड़ दिया गया. लेकिन अनु दुबे ने पुलिस पर उसके साथ ज्यादती करने का आरोप लगाया है. उसका कहना है कि पुलिस ने उसका बैग चेक किया, उसे प्रताड़ित किया गया. दिल्ली महिला आयोग ने भी फौरन मामले का संज्ञान लिया है और अब लड़की का मेडिकल चेकअप करवाया जा रहा है.  

संभल की लड़की ने सफदरजंग अस्पताल में तोड़ा दम 
वहीं उत्तर प्रदेश के संभल में रेप के बाद जिंदा जला दी गई नाबालिग पीड़िता ने शनिवार की सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया. 16 साल की लड़की ने सुबह 8 बजे के करीब आखिरी सांस ली. 

22 नवंबर को लड़की को अस्पताल लाया गया था. तब से वो वेंटिलेटर पर थी. लड़की 9 दिन जिंदगी और मौत से लड़ती रही. हालांकि अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने बताया था कि लड़की 80 फीसदी से ज्यादा जल चुकी है. 

21 नवंबर को संभल में घर में अकेली मौजूद किशोरी के साथ पड़ोस में रहने वाले युवक ने जबरन दुष्कर्म किया था.  देश में रेप करने वाले आरोपियों के हौसले कितने बुलंद हैं, इस बात का अंदाज़ा लगाइए कि जब लड़की की मां घर लौटी तो लड़की ने बताया कि उसके साथ गलत काम किया गया है. इस पर मां ने चिल्लाते हुए पुलिस बुलाने की बात कही.

ये जानकारी मिलते ही युवक फिर लड़की के घर पहुंचा. डराने धमकाने से काम नहीं बना तो उसने किशोरी पर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी. गंभीर हालत में किशोरी को उसी रात संभल जिला अस्पताल लाया गया था जहां से उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर किया गया था. जहां पीड़िता की आज 30 नवंबर को मौत हो गई.