केजरीवाल का दावा-दिल्‍ली पूर्ण राज्‍य बना तो सिंगापुर जैसे 10 शहर बना देंगे, झुग्‍गीवालों को देंगे बंगला

दिल्‍ली को पूर्ण राज्‍य बनाने की मांग करते हुए दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री केजरीवाल ने कहा, वह दिल्‍ली को सभी समस्‍याओं से मुक्‍त कर देंगे. हालांकि सिंगापुर बनाने के मुद्दे पर पहले भी केजरीवाल लोगों के निशाने पर रहे हैं.  

केजरीवाल का दावा-दिल्‍ली पूर्ण राज्‍य बना तो सिंगापुर जैसे 10 शहर बना देंगे, झुग्‍गीवालों को देंगे बंगला

नई दिल्ली: दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने को ही राजधानी की समस्याओं का एकमात्र समाधान बताते हुये सोमवार को कहा कि अगर ऐसा हुआ तो दिल्ली में सिंगापुर जैसे दस शहर बना देंगे. केजरीवाल ने सोमवार को पूर्वी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र में पटपड़गंज में चुनावी सभा को संबोधित करते हुये से कहा, ‘‘दिल्ली पूर्ण राज्य बनी तो दिल्ली के हर झुग्गी वाले को नया बंगला बना कर दे देंगे और दिल्ली में दस नये सिंगापुर बना कर देंगे.’

दिल्ली सरकार द्वारा मुहैया करायी जा रही सस्ती बिजली, पानी, स्वास्थ्य और शिक्षा की सुविधायें बेहतर बनाने का हवाला देते कहा कि इन कामों में केन्द्र की मोदी सरकार ने बाधायें उत्पन्न की. इसके लिये उन्होंने दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं दिये जाने को मुख्य परेशानी बताते हुये मतदाताओं से सातों लोकसभा सीट जिताने का आह्वान किया, जिससे लोकसभा चुनाव के बाद दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने का आंदोलन सफलतापूर्वक पूरा किया जा सके. उन्होंने कहा कि दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाने के लिए लड़ना पड़ेगा, जैसे तेलंगाना के लोग लड़े थे.

नीति आयोग के उपाध्यक्ष बोले, 'राहुल गांधी की योजना चांद को जमीन पर लाने जैसी'

जनसभा में पटपड़गंज विधानसभा क्षेत्र के विधायक और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और पूर्वी दिल्ली सीट से आप उम्मीदवार आतिशी भी मौजूद थीं. सिसोदिया ने कहा, ‘'हमें बड़े सपने देखने पड़ेंगे, तभी दिल्ली को अपने हक मिलेंगे.' केजरीवाल ने पूर्ण राज्य की मांग के लिए समर्थन मांगते हुए कहा, अगर दिल्ली पूर्ण राज्य बनेगा, तो स्थानीय कॉलेजों में दिल्ली के छात्रों को 85 प्रतिशत आरक्षण और सरकारी नौकरियों में भी 85 प्रतिशत आरक्षण दिलाएंगे.

इससे पहले आप ने केन्द्रीय आवास एवं शहरी विकास मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी से दिल्ली मेट्रो के किराये में इजाफे के बाद मेट्रो के यात्रियों की संख्या में गिरावट का कारण स्पष्ट करने की मांग की. पार्टी ने एक बयान में मेट्रो के यात्रियों की संख्या में प्रतिदिन तीन लाख तक गिरावट आने संबंधी मीडिया रिपोर्टों का हवाला देते हुये कहा कि पुरी को जनता के समक्ष इसका कारण स्पष्ट करना चाहिये.