close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अवैध पटाखा बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़, 50 लाख के पटाखे जब्त

फैक्ट्री का मालिक दीपावली से पहले बड़े पैमाने पर प्रदूषण फैलाने वाले इन पटाखों को बेचने की फिराक में था. दिल्ली के नरेला इंडस्ट्रियल एरिया में जब बीती रात पुलिस ने छापेमारी की तो इस कारखाने का भंडाफोड़ हो गया. 

अवैध पटाखा बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़, 50 लाख के पटाखे जब्त
दिल्ली में अवैध पटाखा फैक्ट्री का खुलासा. प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद दिल्ली के नरेला इंडस्ट्रियल एरिया में नियमों को ताक में रखकर एक बड़ी अवैध पटाखा फैक्टरी चल रही थी. दिल्ली पुलिस ने छापेमारी करके 50 लाख से ज्यादा कीमत के पटाखे और पटाखे बनाने की मशीनें जब्त की हैं. फैक्ट्री का मालिक दीपावली से पहले बड़े पैमाने पर प्रदूषण फैलाने वाले इन पटाखों को बेचने की फिराक में था. दिल्ली के नरेला इंडस्ट्रियल एरिया में जब बीती रात पुलिस ने छापेमारी की तो इस कारखाने का भंडाफोड़ हो गया. पुलिस को यहां पटाखों के करीब 700 कार्टन, 10 टन पटाखे बनाने का विस्फोटक और सामान, केमिकल से भरे दर्जनों ड्रम बरामद हुए हैं. इस फैक्ट्री में इन 10 मशीनों के जरिये ही पटाखे बनाये जा रहे थे. इन पटाखों की कीमत 50 लाख से ज्यादा है.

उत्तरी दिल्ली के डीसीपी गौरव शर्मा ने बताया कि ये कारवाई पटाखों से भरे एक टेम्पो के मिलने के बाद हुई. टेम्पो के ड्राइवर दीपक पटाखों की खेप लेकर सोनीपत जा रहा था. उसने इस फैक्ट्री के बारे में बताया. फैक्ट्री के मालिक 58 साल के राजकुमार गोयल को फैक्ट्री के अंदर से ही गिरफ्तार कर लिया गया है. राजकुमार पहले खिलौने बनाता था, लेकिन पिछले 3 महीने से पटाखे बना रहा था. दिल्ली में पटाखों की बिक्री और इसे बजाने पर सुप्रीम ने रोक लगा रखी है. इसी वजह से ज्यादा मुनाफा कमाने के चक्कर में तीन महीनों से ये फैक्ट्री चल रही थी.

लाइव टीवी देखें-:

पुलिस ने फैक्ट्री को सील कर दिया है. अब पुलिस पता लगा रही है की इस गोरखधंधे में कितने और लोग शामिल हैं और ये लोग पटाखे बनाने का सामान कहां से ला रहे थे.