Breaking News
  • Zee News की अपील: पैनिक ना हों लोग, राशन-सब्जियों की दुकानों पर न लगाएं भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग का रखें पूरा ख्याल
  • यूपी के 15 जिलों के कुछ इलाके 15 अप्रैल तक पूरी तरह रहेंगे सील
  • बीजेडी नेता पिनाकी मिश्रा का दावा- 'पीएम ने Lockdown बढ़ाने के संकेत दिए'

सतलोक आश्रम के श्रद्धालुओं को पंचकूला में रोकने का निर्देश

पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने सतलोक आश्रम के श्रद्धालुओं को पंचकूला में रोकने का निर्देश दिया है। बुधवार को संत रामपाल को हाईकोर्ट में पेश होना है और आरएसएस (राष्ट्रीय समाज सेवा) ने यूटी प्रशासन को आगाह किया था कि एक लाख से अधिक श्रद्धालु इस मौके चंडीगढ़ पहुंच सकते हैं।

चंडीगढ़: पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने सतलोक आश्रम के श्रद्धालुओं को पंचकूला में रोकने का निर्देश दिया है। बुधवार को संत रामपाल को हाईकोर्ट में पेश होना है और आरएसएस (राष्ट्रीय समाज सेवा) ने यूटी प्रशासन को आगाह किया था कि एक लाख से अधिक श्रद्धालु इस मौके चंडीगढ़ पहुंच सकते हैं।

आरएसएस प्रमुख राम कुमार ढाका ने यूटी प्रशासन को पत्र भेज कर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के चंडीगढ़ आने की जानकारी दी थी। यूटी प्रशासन ने हाईकोर्ट में अर्जी देकर बुधवार की पेशी स्थगित करने का आग्रह करते हुए कहा था कि हरियाणा विधानसभा का सत्र चल रहा है, ऐसे में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं को संभालने में दिक्कत आएगी। हाईकोर्ट ने संत रामपाल ढाका व डॉक्टर आरएस हुड्डा के वकीलों को मंगलवार को तलब किया था।

जस्टिस एम जियापाल की बेंच ने मंगलवार को निर्देश जारी किया कि श्रद्धालुओं को पंचकूला में एकत्र किया जाए। यहां कानून व्यवस्था की स्थिति हरियाणा पुलिस की पांच टुकड़ियां संभाले और पंजाब पुलिस की चार टुकड़ियां हरियाणा पुलिस को सहयोग करें। बेंच ने यूटी प्रशासन को शहर में धारा-144 लगाने का निर्देश भी दिया और कहा कि यदि श्रद्धालू संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हैं तो भरपाई उन्हीं से की जाए। इसके साथ ही संत रामपाल, राम कुमार ढाका एवं डॉक्टर आरएस हुड्ड़ा को बुधवार को हर हालत में पेश होने का निर्देश दिया गया है।

उल्लेखनीय है कि संत रामपाल की पेशी के दौरान हिसार अदालत के बाहर न्याय प्रणाली के खिलाफ नारेबाजी करने और उत्पात मचाने के कारण संत रामपाल के खिलाफ हाईकोर्ट ने अवमानना कार्रवाई शुरू की थी। हाईकोर्ट में वह दो पेशियों पर नहीं पहुंचे थे। सतलोक आश्रम से जुड़े श्रद्धालुओं की संस्था के मुखी राम कुमार ढाका ने हाईकोर्ट में शपथ पत्र देकर हिसार अदालत के बाहर हंगामे की जिमेवारी ली थी और कहा था कि हंगामे से संत रामपाल का कोई लेन देन नहीं है।

पिछली सुनवाई पर संत रामपाल के वकील ने हाईकोर्ट में डॉक्टर आरएस हुड्डा की ओर से जारी एक मेडिकल सर्टिफिकेट पेश करते हुए बीमारी की वजह से संत रामपाल की पेशी से छूट मांगी थी। हाईकोर्ट ने मेडिकल सर्टिफिकेट पर संदेह प्रगट करते हुए डॉक्टर आरएस हुड्ड़ा को भी तलब कर लिया था। अवमानना मामले में सुनवाई बुधवार को होनी है।