close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हरियाणा-पंजाब में पराली जलाने से दिल्ली में होने वाले प्रदूषण पर केजरीवाल गंभीर, दोनों CM को लिखी चिट्ठी

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) को जानकारी मिली कि हरियाणा (Haryana) और पंजाब (Punjab) में पराली जलना प्रारंभ हो गया है. इन दोनों राज्यों में पराली जलने से निकलने वाला धुआं हर साल नवंबर में दिल्ली (Delhi) के वायु को तेजी से प्रदूषित करता है. 

हरियाणा-पंजाब में पराली जलाने से दिल्ली में होने वाले प्रदूषण पर केजरीवाल गंभीर, दोनों CM को लिखी चिट्ठी
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली (Delhi): हरियाणा (Haryana) और पंजाब (Punjab) में पराली जलने से होने वाले प्रदूषण (pollution) पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) बेहद गंभीर हैं. उन्होंने हरियाणा (Haryana) और पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर तत्काल पराली जलाने से रोकने के लिए ठोस कदम उठाने की मांग की है. उन्होंने इस संबंध में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को भी लिखा है. जिससे आने वाले समय में दिल्ली (Delhi) की हवा को प्रदूषित होने से रोका जा सके. राष्ट्रीय समाचार पत्रों से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) को जानकारी मिली कि हरियाणा (Haryana) और पंजाब (Punjab) में पराली जलना प्रारंभ हो गया है. इन दोनों राज्यों में पराली जलने से निकलने वाला धुआं हर साल नवंबर में दिल्ली (Delhi) के वायु को तेजी से प्रदूषित करता है. इस बार ऐसा न हो सके, इस कारण मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने हरियाणा (Haryana) और पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्री के साथ केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को बृहस्पतिवार को पत्र लिखा. जिसमें अपेक्षा की गई है कि पराली जलाने से रोकने के लिए राज्यों के मुख्यमंत्री के अलावा केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय भी तत्काल और ठोस कदम उठाएं.

इस संबंध में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने ट्वीट भी किया. जिसमें उन्होंने लिखा कि, "मैंने हरियाणा (Haryana) और पंजाब (Punjab) के मुख्यमंत्रियों और केंद्रीय पर्यावरण मंत्री को पत्र लिखकर पराली जलाने से निपटने के लिए तत्काल कदम उठाने की मांग की है. मुझे पता है कि वे प्रयास कर रहे हैं. लेकिन प्रदूषण (pollution) को रोकने के लिए अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है. हमारे स्तर पर प्रदूषण (pollution) को कम करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं." 

उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि लोगों का स्वास्थ्य किसी भी सरकार की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है. दुर्भाग्य से, पूरे उत्तर भारत में सर्दियों में वायु प्रदूषण (pollution) का उच्च स्तर होता है. जिससे लोगों को परेशान होना पड़ता है. खासकर बच्चों और बुजुर्गों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. इसकी गंभीरता को समझते हुए तत्काल कड़े कदम उठाने की आवश्यकता है. सभी सरकारी एजेंसियों और दिल्ली (Delhi) के लोगों के निरंतर प्रयासों के कारण दिल्ली (Delhi) आज उन कुछ शहरों में शामिल है, जहां प्रदूषण (pollution) पिछले 4 वर्षों में 25 प्रतिशत तक कम हुआ है.

देखें लाइव टीवी

आगामी सर्दियों में प्रदूषण (pollution) को दूर करने के लिए दिल्ली (Delhi) सरकार ने पहले से ही 7-सूत्रीय कार्य योजना की घोषणा की है. जिसे पूरी तरह से लागू किया गया है. हालांकि, पंजाब (Punjab) और हरियाणा (Haryana) में पराली जलने के कारण होने वाले प्रदूषण (pollution) से लड़ने में दिल्ली (Delhi) के लोग सक्षम नहीं है. जबकि, अक्टूबर और नवंबर में दिल्ली (Delhi) के प्रदूषण (pollution) इनका बड़ा योगदान है. मुख्यमंत्री ने लिखा, आपकी सरकार ने पराली जलने से रोकने के संबंध में ले कुछ कदम उठा रहे हैं, लेकिन मुझे यकीन है कि आप इस बात से सहमत होंगे कि बहुत कुछ करने की जरूरत है. 

मुख्यमंत्री ने पहले ही सर्दियों में फसल जलने के कारण वायु गुणवत्ता बिगड़ने की समस्या से निपटने के लिए 7 सूत्री पराली प्रधान कार्य योजना और 5 सूत्री शीतकालीन कार्य योजना की घोषणा की है. 50 लाख मास्क की खरीद शुरू हो गई है और ऑड-ईवन योजना पर काम किया जा रहा है. दिल्ली (Delhi) सरकार ने दिवाली की पूर्व संध्या पर होने वाले सामुदायिक दिवाली कार्यक्रम के लिए लोगों को जागरूक करना शुरू कर दिया है. जिससे लोग पटाखे न जलाएं. वह त्योहार के लिए एक साथ आएं और लेजर शो का आनंद लें. 

सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने पत्र के अंत में लिखा है कि मेरा निवेदन है कि आपकी सरकार इस बार जरूर यह सुनिश्चित करेगी कि पराली जलाने पर तत्काल रोक लगे. यही एक मात्र तरीका है, जिससे हम पंजाब (Punjab) और दिल्ली (Delhi) के लोगों के लिए अच्छे स्वास्थ्य की अपनी जिम्मेदारी को पूरा कर सकते हैं. मालूम हो कि दिल्ली (Delhi) देश का एकमात्र शहर है, जहां पिछले दिनों प्रदूषण (pollution) में कमी आई है. पीएम 2.5 की एकाग्रता में पिछले तीन वर्षों में 25 प्रतिशत की कमी आई है. हालांकि, दिल्ली (Delhi) की वायु गुणवत्ता में सुधार के बावजूद, सर्दियों में पंजाब (Punjab) और हरियाणा (Haryana) में जलने वाले पराली से वायु प्रदूषण (pollution) का खतरा है.

दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों की नवीनतम रैंकिंग में टॉप टेन में 7 भारतीय शहर हैं. जबकि दिल्ली (Delhi) इस सूची में 11 वें स्थान पर है. शीर्ष 3 भारतीय शहर गुरुग्राम, गाजियाबाद और फरीदाबाद हैं. सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) पहले ही प्रदूषण (pollution) से निपटने और लोगों को राहत देने के लिए 7 सूत्रीय पराली प्रधान कार्य योजना और 5 सूत्रीय शीतकालीन कार्य योजना की घोषणा कर चुके हैं.

एक तरफ जिस तरह से दिल्ली (Delhi) प्रदूषण (pollution) से लड़ने के लिए प्लान बना चुकी है, उस तरह अन्य राज्यों को भी ठोस कदम उठाने चाहिए.